भुजंगासन योग – जानिए विधि, लाभ और सावधानियाँ

comment 1

रोजमर्रा की इस जिंदगी में अधिकतर लोग कमर और पीठ दर्द की समस्या से परेशान है| वैसे तो यह आम समस्या है लेकिन कई बार ध्यान नहीं दिए जाने पर यह समस्या बहुत अधिक बढ़ जाती है, की इन्सान का बैठना तक मुश्किल हो जाता है|

इससे निजात पाने के लिए आपको ऐसे व्यायाम की जरुरत है जो आपकी रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाये| योग के आसनों में शामिल भुजंगासन इसमें आपकी मदद कर सकता है| यह आसन ना केवल आपको पीठ और कमर दर्द बल्कि कई शारीरिक परेशानियों से मुक्ति दिलाता है|

यह आसन पेट के बल लेटकर किये जाने वाले आसनों में से एक है| भुजंगासन को करते वक्त शरीर की आकृति फन उठाए हुए भुजंग की तरह बनती है इसलिए इसे भुजंगासन कहा जाता है| वही इसका एक नाम सर्पासन भी है| जो लोग छरहरी काया पाना चाहते है उनके लिए तो यह आसन बहुत ही अधिक फायदेमंद है| आइये जानते है Bhujangasana in Hindi.

Bhujangasana in Hindi – कोबरा पोज़ की जानकारी

Bhujangasana in Hindi

जब सूर्यनमस्कार किया जाता है, तब इस आसन का क्रमांक उसमे सातवे नंबर पर आता है| इसे करने से शरीर फुर्तीला बनता है| अंग्रेजी में इसे Cobra Pose कहा जाता है| इसके लाभ तो कई है लेकिन हम पहले आपको इसकी सावधानी से अवगत करवाएंगे ताकि आपको पता रहे है की किसे इस आसन को करना चाहिए और किसे नहीं?

Cobra Pose Precautions: भुजंगासन में सावधानियाँ

  1. सबसे महत्वपूर्ण बात भुजंगासन या फिर योग का कोई और अन्य आसन भी तो उसे अपनी क्षमता के अनुसार ही करना चाहिए|
  2. यदि इस आसन को करते वक्त आपको पेट दर्द या शरीर के किसी अन्य शरीर में अधिक दर्द हो तो इस आसन को ना करे|
  3. जिस व्यक्ति को पेट के घाव या आंत की बीमारी है वो इस आसन को करने से पहले चिकित्सक से सलाह ले|
  4. इस आसन का अभ्यास करते वक्त पीछे की तरफ ज्यादा ना झुकें| इससे माँस-‍पेशियों में खिंचाव आ सकता है जिसके चलते बाँहों और कंधों में दर्द पैदा होने की संभावना बढ़ती है।
आप यह भी पढ़ सकते है:- नटराजासन – मोटापा घटाने और तनाव दूर करने में सहायक

Bhujangasana Steps in Hindi: जाने इसकी विधि

  • Cobra Yoga Pose करने के लिए सर्वप्रथम पेट के बल लेट जाएं।
  • इसके बाद हथेली को कंधे के सीध में रखे|
  • आपके दोनों पैरों के बीच दुरी नहीं होना चाहिए, तथा पैर तने हुए होना चाहिए|
  • इसके बाद साँस ले और शरीर के अगले भाग को ऊपर की और उठाये|
  • इस वक्त एक बात का ख्याल रहे की कमर पर ज्यादा खिंचाव ना आने पाए|
  • कुछ सेकंड्स इसी अवस्था में बने रहे|
  • फिर गहरी सांस छोड़ते हुए सामान्य अवस्था में आ जाये|
  • शुरुवाती दौर में इसे दो से तीन बारे करे और धीरे धीरे करने का समय बढाते जाये|

Bhujangasana Benefits in Hindi: भुजंगासन के लाभ

  1. यह पीठ दर्द के लिए लाभकारी आसन है|
  2. गले संबंधी रोगों में यह आसन फायदेमंद है|
  3. इस आसन से छाती चौड़ी होती है, इसलिए लडको के लिए यह आसन बहुत लाभकारी है|
  4. भुजंगासन के नियमित अभ्यास से कमर से सम्बन्धित परेशानियां जैसे कमर में दर्द आदि दूर होती है| दरहसल यह कमर को अधिक सक्रिय और उर्जावान बनाता है|
  5. भुजंगासन पैंक्रियाज को सक्रिय करता है जिसके चलते सही मात्रा में इन्सुलिन बनने लगता है इसलिए मधुमेह से पीड़ित लोगो को यह आसन जरुर करना चाहिए|
  6. इससे मासिक संबंधी समस्याओ जैसे अनियमित पीरियड्स, पेट में दर्द, कमर दर्द आदि में लाभ मिलता है|
  7. जिन लोगो का पेट आगे की और निकला हुआ है उन्हें इस आसन को करने से लाभ मिलता है, इससे पेट की चर्बी कम होती है|
  8. जिन लोगो के कार्यस्थल पर बहुत तनाव वाला वातावरण रहता है उन्हें इस आसन का अभ्यास करने से तनाव से मुक्ति मिलती है और मन शांत रहता है|
  9. इस आसन को करने से थकान जल्दी नहीं होती है|
  10. पेट के अंगो को सुचारू रूप से कार्य करवाने में यह आसन मदद करता है|

ऊपर आपने जाना Bhujangasana in Hindi. आप भी इस आसन का अभ्यास करके उपरोक्त सभी लाभ प्राप्त कर सकते है, किन्तु यदि आप योग के लिए नए है तो इस आसन का अभ्यास योग गुरु के निर्देशों में ही करे|

Related Post