Breathe Yoga: श्वास योग का अभ्यास करिये और स्वस्थ रहिये

अपने आपको फिट रखने के लिए लोग कुछ न कुछ करते रहते है लेकिन कारगार असर न मिलने पर हताश हो जाते है। इसके लिए आपको प्राणायाम को अपने जीवन में अपनाना चाहिए।

योग की तरह ही प्राणायाम होता है जो मनुष्य को स्वस्थ रखने में काफी हद तक सक्षम होता है। जिसे ब्रेथ योग कहा जाता है और हिंदी में प्राणायाम। यह सभी तरह की बीमारियों से छुटकारा दिलाने में मददगार होता है।

प्राणायाम जो प्राण और आयाम से मिलकर बना है। प्राण का अर्थ जीवनशक्ति या सांस और आयाम का अर्थ है नियंत्रण। प्राणायाम का पूरा अर्थ निकलता है अपनी सांसो को नियंत्रित कर के रखना जिससे आपको कई प्रकार की समस्याओ से राहत मिल पायेगी।

इस लेख में हम आपको आज बता रहे कि अलग अलग प्रकार के प्राणायाम करने से किस तरह के फायदे होते है और उनको करने की विधि क्या होती है। इस लेख में पढ़े Breathe Yoga.

Breathe Yoga: जाने अलग अलग ब्रेथ योग के बारे में

Breathe Yoga in Hindi

सुखासन

  • इस प्राणायाम को करने के लिए सुखासन में बैठे।
  • सुख आसन में बैठना मतलब अपने एक पैर की एड़ी अपने दूसरे पैर की जांघ पर होना।
  • और पीठ बिलकुल सीधी रखे।
  • अब सुखासन में बैठने के बाद इस तरह साँस लें की हवा पेट में भर जाए।
  • और साथ में पेट को भुलाये।
  • अब साँस छोड़ते हुए अपने पेट को भी अंदर कर लें।
  • अब आपकी साँस लेने की गति स्वाभाविक होना चाहिए।
  • साथ ही इस क्रिया को बार बार दोहराइए।
  • इस प्राणायाम को करने से शरीर और मस्तिष्क को काफी आराम मिलता है।
  • इससे नर्वस सिस्टम और रेस्पिरेटरी सिस्टम दोनों स्वस्थ रहते है।
  • मनुष्य के अंदर की एकाग्रता बढ़ती है
  • इस प्राणायाम को करने से तनाव, डिप्रेशन और हाइपरटेंशन कम होता है।

भस्त्रिका प्राणायाम

  • भस्त्रिका प्राणायाम योगासन की तरह किया जाने वाला एक प्राणायाम होता है।
  • इसे अनुलोम-विलोम योगासन की तरह किया जाता है।
  • इसके लिए आप किसी भी आरामदायक अवस्था में बैठ जाए।
  • अपने हाथों को ज्ञान मुद्रा में रख लें और दोनों नाक से तेज गति से 10 बार सांस लें और छोड़े।
  • ऐसा करते समय मन में गिनती करते रहें।
  • अब दोनों नाक से धीरे-धीरे और गहरी सांस लें।
  • इस क्रिया को थोड़ी देर तक दोहराइये।
  • यह प्राणायाम रेस्पिरेटरी सिस्टम को मजबूत बनाता है और साथ ही फेफड़ो को स्वस्थ रखता है।
  • यह पाचन तंत्र को स्वस्थ और पेट की चर्बी को भी कम करता है।

भ्रामरी प्राणायाम

  • इस प्राणायाम को करने के लिए पहले आरामदायक अवस्था में बैठ जाए।
  • इसके बाद ध्यान मुद्रा में सीधे बैठे और गहरी साँस लें।
  • आप दोनों हाथों से अपनी आँखे कानों को बंद कर लें।
  • अब ॐ का उच्चारण करते हुए साँस छोड़े।
  • इसे करने पर आपका दिमाग कुछ तरंगे अनुभव करेगा।
  • इस क्रिया को थोड़ी देर तक दोहराइए।
  • यह प्राणायाम आवाज सुधारने में मदद करता है।
  • इसी के साथ दिमाग को तनाव मुक्त करने में भी सक्षम होता है।
  • इसके अलावा मन को शांति प्रदान करता है।

इस ऊपर लेख में दिए प्राणायाम के अलावा कपालभाति प्राणायाम या अनुलोम-विलोम भी कर सकते है। ऊपर लेख में दिए सभी ब्रेथ योग मनुष्य की समस्याओ में राहत दिलाते है। बस अपनी सांसो पर ध्यान केंद्रित करे यह आपको स्वस्थ रखने में सक्षम है।

You may also like...