सिटिंग पोस्चर को बेहतर बनाता है दंडासन, जानिए इसकी विधि

comment 1

एक आकर्षक व्यक्तित्व के लिए ना केवल सुन्दर काया बल्कि स्वस्थ शरीर की भी जरुरत होती है| योग की मदद से यह दोनों चीज़े पायी जा सकती है| योग ना केवल हमारा शरीर निरोगी बनाता है बल्कि हमें शारारिक और मानसिक तौर पर मजबूत भी बनाता है| अगर योगसानो की बात की जाये तो दंडासन ही एक मात्र ऐसा आसन है जो शरीर को मजबूत बनाता है।

जो लड़के चौड़ी और मजबूत छाती बनाना चाहते हैं उनके लिए तो यह बेहद ही फायदेमंद है| इस आसन की खासियत यह है की इस आसन की मदद से कम समय में ही लाभ दिखाई देने लगते है|

दंडासन बैठकर किये जाने वाला योग आसन है| इस आसन को स्टाफ पोज़ के नाम से भी जाना जाता है| इस आसन के नियमित अभ्यास से हाथ पैर की मांसपेशिया मजबूत होती हैं। सिटिंग पोस्चर को ठीक करने के लिए यह बेहतरीन योग है|

दंडासन शब्द संस्कृत से लिया गया है| यह दो शब्दों के मेल से बना है| दन्द अर्थात डंडा, जिसका अर्थ छड़ी होता है, जबकि आसन का अर्थ मुद्रा होता है| दंडासन आसन करने से पाचन तंत्र में सुधार आता है, शरीर का दर्द दूर होता है, पैरों की मांसपेशिया सक्रिय होती है, तथा शरीर से आलस और थकान दूर होता है| तो आइये जानते है Dandasana in Hindi, इसकी विधि और लाभ|

Dandasana in Hindi – जानिए दंडासन की कार्य विधि और लाभ

Dandasana in Hindi

Dandasana Steps: दंडासन की विधि

  • दंडासन करने के लिए सबसे पहले किसी साफ-स्वच्छ स्थान पर कंबल आदि बिछा लें।
  • अब सीधा तन कर बैठ जाइये और दोनों पैरों को चहरे के समानान्तर एक दूसरे से सटाकर सीधा रखे|
  • सिर को बिलकुल सीधा रखे|
  • अपने पैरो की उंगलियों को अंदर की ओर मोड़ें और तलवों को बाहर की ओर धक्का दें|

दंडासन सीटेड योगा पोसेस में प्राथमिक अवस्था का योग है| इस मुद्रा में शरीर के ऊपरी और नीचले हिस्से दोनों का ख्याल रखना होता है| शरीर का ऊपरी हिस्सा हमेशा सीधा और तना हुआ होना चाहिए जबकि शरीर का नीचला हिस्सा ज़मीन से लगा हुआ होना चाहिए| यदि आपको कमर को मोड़ने में परेशानी हो रही हो तो सहारा देने के लिए आप कम्बल को मोड़कर उसपर बैठ सकते है|

  • दंडासन से पहले किये जाने वाले पोसेस: अधो मुखा स्वनासन, उत्तानासन
  • दंडासन के बाद किये जाने वाले पोसेस: पूर्वोत्तनासना
आप यह भी पढ़ सकते है:- पाचन तंत्र मजबूत बनाने के लिए रोज करे नौकासन

Dandasana Benefits in Hindi – जानिए दंडासन से मिलने वाले लाभ 

  1. आपके शरीर का पोस्चर सुधारता है|
  2. शरीर के सभी अंग मजबूत होते हैं।
  3. कंधे और छाती को चौड़ा बनाता है|
  4. शरीर में जागरूकता पैदा करता है|
  5. रीढ़ की हड्‌डी से जुड़ी समस्याएं दूर होती हैं।
  6. शरीर के संरेखण सुधार में मदद करता है|
  7. पीठ की मांसपेशियों को मजबूत बनाता है|
  8. पाचन अंगों की कार्यक्षमता में सुधार करता है|
  9. रीढ़ की हड्डी को मजबूत और लचीला बनाता है|
  10. शरीर में लगी हुई चोट को ठीक करने में मदद करता है|
  11. मस्तिष्क की कोशिकाओं को शांत करने में मदद करता है|
  12. इस आसन के नियमित अभ्यास से हाथ पैर की मांसपेशिया मजबूत होती हैं।
  13. प्रजनन अंगों से संबंधित जटिलताओं को राहत देने में भी सहायता मिलती है|

दंडासन में बरती जाने वाली सावधानिया:-

  • Dandasana Yoga Pose का अभ्यास हमेशा खाली पेट करे|
  • उच्च रक्तचाप से पीड़ित इस आसन का अभ्यास ना करे|
  • एक बात का ख्याल रहे की इस आसन को करने से पहले आपके पीठ, कलाई या अन्य अंग चोट से पीड़ित नहीं है|
  • इस आसन का अभ्यास करते वक्त एक बात का ख्याल रखे की जिस जगह आसन कर रहे है वो जगह फिसलने वाली ना हो|
  • यदि आप योग के शुरुवाती हैं, तो आपसे यह सिफारिश है कि आप एक अच्छी तरह से प्रशिक्षित योग शिक्षक की निगरानी में इस योग को करे|

ऊपर आपने जाना Dandasana in Hindi. यदि आप भी अपने शरीर को मजबूत बनाना चाहते है तो दंडासन का अभ्यास जरूर करे| यदि इस आसन का अभ्यास करते वक्त आपको किसी तरह की परेशानी हो रही है और इसका अभ्यास तुरंत बंद कर दे|

Related Post