शारीरिक रोगों से राहत दिलाने में सहायक है जल नेती क्रिया

योग में बहुत सारी क्रियाओं का उल्लेख मिलता है। आसन, प्राणायाम के बाद क्रियाओं को भी करना सीखना चाहिए। क्रियाएँ करना बहुत कठिन माना जाता है, लेकिन क्रियाओं से तुरंत ही लाभ मिलता है।

योग में मुख्यतः छह क्रियाएँ होती है त्राटक, नेती, कपालभाती, धौती, बस्ती और नौली| शरीर को स्वस्थ और शुद्ध करने के लिए इन् क्रियाओं का विशेष महत्त्व है| जिन्हे षट्कर्म कहा जाता है| शारीरिक शुद्धि के बिना आसान – प्राणायाम का पूर्ण लाभ नहीं प्राप्त हो सकता है| यहाँ हम नेती क्रिया के बारे में जानकारी दे रहे है|

नेती क्रिया मुख्यत: सिर के अंदर वायु-मार्ग को साफ़ करने की क्रिया है। इसे करने से प्राणायाम करने में भी आसानी होती है तथा इसे तीन तरह से किया जाता है सूत नेती, जल नेती, और कपाल नेती। इन् तीनो क्रिया का अपना अलग महत्त्व है| आज हम आपको जल नेती क्रिया, के बारे में बताने जा रहे है|

मौसम परिवर्तन की वजह से कई बार लोगो को नाक बंद होने, नाक जमने, आँखों में खुजली व् कंजेक्शन की समस्या होती है| अगर यह लक्षण अधिक तीव्र है तो इससे रहत पाने के लिए जल नेती क्रिया से लाभ पाया जा सकता है| आइये जानते है Jal Neti in Hindi.

Jal Neti in Hindi: जानिए इसकी विधि और लाभ   

Jal Neti in Hindi

दमा और ब्रोंका‌इटिस जैसे रोगों के मरीज हर मौसम में सर्दी और एलर्जी से परेशान रहते है। इनसे स्थायी समाधान के लिए कोई ठोस दवा नहीं है और न ही कोई कारगर इलाज। ऐसे में दमा के मरीज अगर सुबह के समय जल नेती का अभ्यास करें तो वे हर मौसम में स्वस्थ रहेंगे।

जल नेती के निरन्तर अभ्यास से नाक के अंदर मौजूद म्यूकस और बेक्टेरिया साफ़ हो जाते है| ऐसा होने पर नासिका और साइनस ब्लॉकेज समाप्त हो जाते है| जब आपकी नाक साफ़ रहती है तो आपका दिमाग, चेहरा, आँखे और मानसिक स्थिति पहले से ओर भी अधिक बेहतर हो जाती है|

जल नेती क्रिया की विधि

जल नेती क्रिया करने के लिए सबसे अधिक जरुरी चीज होती है नालीदार बर्तन| आप कोई ऐसा बर्तन या लोटा लें, जिसमें नली या टोटी लगी हो, इससे आपको पानी नाक में डालने में आसानी होगी|

जल नेती क्रिया बहुत ही आसान और कम समय में होने वाली क्रिया है| इसमें नालीदार बर्तन के अलावा, हल्का गुनगुना पानी, जो अधिक गर्म न हो तथा तीसरी चीज जो इस क्रिया में काम आती है| वह है नमक| इसमें हलके गुनगुने पानी में थोड़ा सा नमक भी मिलाया जाता है|

  1. इस क्रिया में सबसे पहले हल्के गर्म पानी में आधा चम्मच नमक मिलाएं और नेती यानि टोटी वाले बर्तन में भर लें।
  2. अब नाक के एक छेद में नली के जरिये पानी डालें। यदि आपको सर्दी हो रही है तो जो नासिका छिद्र बंद हो उसमें जल पहले डालें।
  3. इसके बाद धीरे-धीरे पानी डालें और लंबी सांस न लें और न ही पनि को अंदर खींचे। यह पानी नाक के दूसरे छेद से निकलना चाहिए और मुंह को खुला रखना होता है|
  4. अब इस प्रक्रिया को नाक के दूसरे छेद से करें। दोनों छेद से यह क्रिया करने के बाद सीधे खड़े हो जाएं।
  5. अंत में गहरी सांस लें और फिर जल्दी-जल्दी कई बार सांस छोड़ें।
आप यह भी पढ़ सकते है:- स्त्रियों को मजबूत और आकर्षक शरीर प्रदान करता है हनुमानासन

जल नेती क्रिया के लाभ

यह क्रिया सभी व्यक्तियों के लिए लाभकारी होती है, इसलिए सुबह-सुबह कोई भी व्यक्ति कर सकता है| यह एक बहुत ही फायदेमंद क्रिया है| जो शारीर को रोगों अनेक रोगों से बचाता है| आइये जानते है Jal Neti Benefits

  1. यह क्रिया करने से मष्तिष्क को ठंडक पहुंचती और भारीपन दूर होता है| जिससे दिमाग शांत, हल्का, तनाव मुक्त तथा थकान आदि से रहत दिलाता है|
  2. इस क्रिया के अभ्यास से नाक में जमे बैक्टीरिया का नाश होता है और नाक की सफाई भी हो जाती है| साथ ही कान, नाक, दाँत, गले आदि के कई रोग नहीं हो पाते और आँख की दृष्टि भी तेज होती है।
  3. इसके नियमित अभ्यास से सर्दी, जुकाम और खाँसी की शिकायत बिलकुल समाप्त हो जाती है|
  4. जलनेति क्रिया करने से दमा, टी.बी., खाँसी, नकसीर, बहरापन तथा अनेक छोटी-मोटी 1500 बीमीरियाँ दूर होती हैं। साथ ही इसके अभ्यास से धूम्रपान की आदत छूट जाती है|

आज हमने आपको Jal Neti in Hindi, से सम्बंधित जानकारियां दी है| जो आपके स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद साबित होती है| यह क्रिया थोड़ी कठिन है इसलिए पहले इसे अच्छी तरह सिख लेने के बाद ही करना चाहिए|

Related Post

योग के अभ्यास से मुहासों से मुक्ति पाएं और चेहरा स... हर व्यक्ति को सुंदर दिखने का शौक होता है। हर कोई चाहता है लोग उनकी सुंदरता की तारीफ करें। यदि आप सुंदर है और आपके नाक-नक्ष भी आकर्षक हैं परंतु चेहरे प...
Yoga for Traveler: यात्रा से होने वाली परेशानियों ... घूमना फिरना और यात्रा करना सभी को पसंद होता है। कुछ लोग नए नए स्थान और चीजें देखने के लिए यात्रा करते है तो कुछ लोग अपने बिज़नेस या नौकरी की वजह से भी ...
Angamardana – फिटनेस पाने का एक शक्तिशाली तर... ‘अंगमर्दन’ शब्द का अर्थ होता है अपने हाथ-पैरों या फिर शरीर के अंगों पर नियंत्रण रखना। अंगमर्दन, मानव तंत्र को तैयार करने का बहुत अच्छा माध्यम होता है।...
मोटापे से निजाद पाने के लिए बाबा रामदेव के 6 योगास... वजन का बढ़ना और मोटापा आज बहुत से लोगो के लिए सबसे महत्वपूर्ण स्वास्थ्य मुद्दों में से एक है। शरीर का वजन एक बार बढ़ जाने पर उसे कम करने के लिए शरीर को ...
जानिए योग क्या है और इसके समस्त प्रकारों का वर्णन... योग हमारे ऋषि मुनियों द्वारा दिया गया एक अनमोल उपहार है| यह एक प्राचीन चिकित्सीय पद्धति है, जो आपके सम्पूर्ण स्वास्थ्य को बनाने में सहायक है| योग के अ...
क्रिया योग – आध्यात्मिक विकास करने में सहायक... यदि आप संस्कृत जानते हो तो क्रिया के अर्थ से भी आप परिचित होंगे| क्रिया का अर्थ होता है ‘करना’| वही जब योग की बात करते है तो वहा भी आपको कुछ कार्य करन...

Leave a Reply