Mahamudra Health Benefits – पेट संबंधी रोगों को दूर करे और मोटापा घटाए

संस्कृत में, महा यानि महान और मुद्रा का अर्थ है एक भावI महा मुद्रा मानव चेतना को उच्च स्तर तक लाने और स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए एक तकनीक है।

आपको बतादे कि योग में आसन और प्राणायाम से भी बेहतर मुद्राओं को माना जाता है| यह इसलिए होता है क्यूंकि आसन आपको शारीरिक रूप से लचीला बनाता है जबकि मुद्राओं से शारीरिक के साथ मानसिक शक्तियां भी विकसित होती है।

आज हम आपको महा मुद्रा के बारे में बता रहे है जो कई प्रकार के फायदे प्रदान करती है। महा मुद्रा करने से सुषुम्ना नाड़ी सही तरह से चलने लगती है। Mahamudra Health Benefits शरीर में विषाक्त पदार्थों के प्रभाव को बेअसर कर सकती है।

साथ ही यह मन को शांति प्रदान करने में सहायक हैI महामुद्रा आसन शरीर में जमी अतिरिक्त चर्बी को बाहर निकाल देता है। इतने सारे लाभों को जानने के बाद आइये जानते है महा मुद्रा को कैसे करे।

Mahamudra Health Benefits के लिए जाने इसे करने की विधि क्या है

Mahamudra Health Benefits

महा मुद्रा को कैसे करे?

  • सबसे पहले आसन बिछा कर बैठ जाये।
  • इस आसन में शरीर के कई अंग प्रभावित होते हैं।
  • इसके बाद अपने दोनों पैर को फैला ले ध्यान रहे की दोनों पैरों के बीच दूरी रहे।
  • मेरुदंड को सीधा रखे और फिर हांथों को घुटने पर रखे।
  • इसके बाद दाये पैर को घुटने से मोड़कर एड़ी को अपनी जांघ से सटायें।
  • ध्यान रहे की दाए पैर का तलवा जंघा से लगा होना चाहिए। इसके बाद हाथ ऊपर उठा कर सांस लें।
  • फिर सर को बाए साइड के घुटने से लगाकर हाथों से पैर को पकड़ लें। यह महामुद्रा की पूर्ण स्थिति होती है।
  • अब सांस को छोड़ते हुए सीधा उठें और दाया पैर सीधा करें।
  • अब सामान्य अवस्था में आ जाएँ।
  • इस आसन को पैर बदलकर फिर से अभ्यास करें।

महामुद्रा आसन के लाभ

  1. महामुद्रा आसन को नियमित रूप से करने पर मोटापा कम होता है और पेट पतला होता है।
  2. इस आसन को करने से बवासीर, दमा, क्षय, कुष्ठ आदि रोग दूर हो जाते है।
  3. महामुद्रा आसन के नियमित अभ्यास से जंघा भाग, रीढ़, कंधे, कमर और फेफड़े बलवान बनते है।
  4. महामुद्रा को प्रतिदिन करने से कमर और पैरो के दर्द दूर हो जाते है।
  5. यदि आप इस आसन को रोज करते है तो जल्दी ही स्वप्न दोष की समस्या दूर होती है।
  6. इसे करने से आपके शरीर में स्फूर्ति भी आती है।
  7. जिन लोगो को मधुमेह और अपेंडिसाइटिस है उनके लिए यह आसन बहुत उपयोगी होता है।
  8. इसके नियमित अभ्यास से आलस्य भी दूर हो जाता है।
  9. इस आसन को करने से स्त्रियों की मासिक धर्म से सम्बंधित समस्या दूर हो जाती है।
  10. पेट सम्बंधित सभी रोग दूर करने के लिए यह आसन बहुत ही फायदेमंद होता है।

बरते ये सावधनिया:-

  • महामुद्रा को खाली पेट करना चाहिए, तो यह ज्यादा लाभकारी होता है।
  • साथ ही इस मुद्रा को करने के 30 मिनट बाद ही कुछ खायें पियें।
  • जिन लोगो को स्लिप डिस्क की समस्या हो उन्हें महामुद्रा नहीं करनी चाहिए।
  • हृदय रोगी को भी महामुद्रा नहीं करना चाहिए।

Related Post

Viparita Shalabhasana: पेट और पीठ के निचले हिस्से ... विपरीत शलभासन को सुपर-मैन पोज़ के नाम से भी जाना जाता है। इसमें शरीर की स्थिति आसमान में उड़ते हुए सुपर मैन के समान होती है। इस आसन को उल्टा लेटकर किया ...
Basti Kriya: वात, पित्त और कफ से सम्बंधित रोगों को... हठ योग के दौरान एनिमा करने की क्रिया को बस्ती क्रिया कहा जाता है। यह क्रिया उदर और मलाशय के शोधन की क्रिया होती है। बस्ती क्रिया से आंतो से मल पूर्...
कब्ज, एसिडिटी सहित पेट के कई विकारो को दूर करता है... हम सभी जानते है की आजकल हमारा खान-पान कितना बदल गया है| संतुलित, स्वस्थ एवं घर का खानपान छोड़कर हम बाहर के खाने को प्राथमिकता देने लगे है| बाहर मिलने व...
स्टैंडिंग योगा पोज़ – रक्त संचार बढ़ाये, शारीर... स्टैंडिंग योगा पोसेस की बात करे तो यह यह शरीर को संतुलित बनाने और बॉडी पोस्चर को सुधारने में बहुत फायदेमंद है| इसके अलावा यह मांशपेशियों की ताकत बढ़ाने...
Rajakapotasana – पाचन तंत्र सुधारे व साइटिका... राजाकपोतासन का अर्थ होता है कबुतरो का राजा। इस आसन में शरीर की मुद्रा कबूतर के समान होती है और साथ ही छाती को चौड़ा रखा जाता है। इसलिए आसन को किंग पिजन...
Padasana Yoga: शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक विकास... जैसा की हम जानते है की आजकल हमारे शरीर में बीमारियों की संख्या आये दिन बढ़ती जा रही है। लोग अनेक प्रकार की बीमारियों से ग्रसित हो रहे हैं जिसके कारण उन...

You may also like...