मरिचियासन अपनाये – कमर और पीठ दर्द को दूर भगाये

कमर और पीठ दर्द की समस्या लोगो में आम है| वैसे तो यह समस्या महिला और पुरुष दोनों को होती है| लेकिन पुरुष की तुलना में यह औरतो में ज्यादा देखने को मिलती है| चाहे कोई महिला घंटो कुर्सी पर बैठे काम करती है, या फिर घर के काम करने वाली घरेलू महिला हो, इस समस्या से अधिकतर महिलाओ को दो चार होना ही पढता है|

कमर दर्द होने पर महिलाओ के पास दो ही रास्ते बचते है या तो दर्द सहे या तो दवाओ का सहारा ले| यह दोनों ही सही नहीं है| प्राकृतिक रूप से कमर दर्द को दूर करने के लिए योग का सहारा लेना चाहिए|

योग के अंतर्गत आने वाला मरिचियासन कमर दर्द से तो छुटकारा दिलाता ही है बल्कि शरीर के अन्य अंगो को भी सक्रिय कर और भी कई फायदे पहुचाता है| महिला और पुरुष दोनों के लिए यह योग का आसन फायदेमंद है| Marichyasana Yoga के बारे में बहुत कम लोग जानते है, इसलिए आज हम आपको इसके बारे में विस्तार से बता रहे है|

Marichyasana in Hindi:  मरिचियासन की विधि, लाभ और सावधानी जाने

Marichyasana in Hindi

Marichyasana Steps: मरिचियासन की विधि

  • Sage Marichi Twist Pose करने के लिए सबसे पहले चटाई बिछा ले और उस पर दोनों पैरो को आगे की ओर सीधा फैला कर बैठ जाएं|
  • गर्दन और कमर को सीधा रखे तथा दोनों हाथो को बगल में रख दे|
  • अब किसी एक पैर को घुटने की तरफ से मोड़े, जैसा की चित्र में दिखाया गया है|
  • आपके पैर का घुटना आपके सीने से स्पर्श होना चाहिए, दुसरे पैर को सीधा रखे|
  • अब जिस पैर को सीधा रखा है, उस दिशा में अपने उपरी शरीर को झुकाए|
  • अब अपने हाथो को पीछे की और मोड़कर पैर के घुटने को जकड़े रखें| मदद के लिए चित्र में देखे|
  • अब गहरी सांस ले, फिर सांस रोककर इस स्तिथि में 20-60 सेकंड तक बने रहे|
  • फिर सांस छोड़कर साधारण स्तिथि में आ जाये|
  • इस क्रिया को बारी-बारी से दोनों पैरो के साथ करें |
  • इस आसन का अभ्यास कम से कम 5 बार करे|
आप यह भी पढ़ सकते है:- गोमुखासन: मधुमेह और स्त्री रोग में फायदेमंद योग

Marichyasana Benefits: मरिचियासन के फायदे

  1. मरिचियासन के नियमित अभ्यास से तनाव खत्म होता है|
  2. इसे करने से महिलाओ को मासकि धर्म में दौरान होने वाले दर्द में कमी आती है|
  3. इसे नियमित रूप से करने पर दिमाग शांत रहता है तथा सिरदर्द नहीं होता|
  4. यह कमर की मांसपेशियों को मजबूत बनाकर, कमर दर्द में राहत दिलाता है|
  5. रीढ़ की हड्डी को मजबूत बनाने में भी यह आसन मदद करता है|
  6. इससे पाचन क्रिया दुरुस्त रहती है तथा पेट संबंधी समस्याओ में भी फायदा मिलता है|
  7. माइग्रेन के मरीजो को इसे करने से फायदा पहुचता है|
  8. यह कंधे, कमर और हैमस्ट्रिंग को मजबूत बनाता है|
  9. यह आसन आपकी किडनी और लिवर को उत्तेजित करता है।
  10. इसका अभ्यास करने से आपकी भीतरी जांघों में मजबूती आती है और यह टोन होती है|
  11. यह शरीर के वजन को संतुलित करने में मददगार है, इससे शरीर पर अतिरिक्त चर्बी नहीं जमती है|
  12. मरिचियासन के नियमित अभ्यास से मानसिक और शारीरिक तनाव को कम करने में मदद मिलती है|

Marichyasana Precautions: मरिचियासन में सावधानिया

  • जिन लोगों को उच्च रक्तचाप की समस्या हो, उन्हें इस आसन को नहीं करना चाहिए|
  • कमर या पीठ में किसी तरह की चोट की स्थिति में भी इस आसन को ना करे|
  • अगर आपको माइग्रेन है तो पहले योग गुरु से इसे करने को लेकर परामर्श जरूर ले|

ऊपर आपने जाना Marichyasana in Hindi. इस आसन को करने से शरीर के सभी अंग सही तरीके से कार्य करने लगते है| इस आसन को करने से शरीर में अच्‍छी प्रकार रक्‍त संचार होता है और शरीर से विषैले तत्‍व बाहर निकल जाते है। यह आसन शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है| किसी भी योग को करने से पहले आप योग गुरू से सलाह जरूर लें।

You may also like...