जानिए ध्यान (मेडिटेशन) केन्द्रित करने के आसान तरीके और इसके लाभ

आज के व्यस्त जीवन शैली ने इंसान को तनाव से भर दिया है| हर व्यक्ति खुशियो के पीछे भाग रहा है| मानसिक शांति पाने का सबसे अच्छा तरीका कुछ है तो वो है ध्यान| ध्यान से तनाव से मुक्ति मिलती है, खुशी का अनुभव होता है, मन को शांति प्राप्त होती है आदि| लेकिन अक्सर लोगो को ध्यान और योग के बीच अंतर नहीं पता होता है| और जिन्हे पता भी होता है उनका सबसे पहले प्रश्न यही होता है कि ध्यान कैसे किया जाये|

ध्यान योग का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है| योग में ध्यान का बहुत ही महत्व मन जाता है| दरहसल ध्यान एक ऐसी पद्धति है जो तन, मन और आत्मा के बीच लयात्मक सम्बन्ध बनाता है| ध्यान के द्वारा हम उर्जा को केन्द्रित कर सकते है| जब ये उर्जा केन्द्रित होती है तो मन और शरीर में शक्ति का संचार होता है|

आपको शायद जानकर यकीं ना हो लेकिन ध्यान के जरिये हमें वर्तमान को देखने और समझने में मदद मिलती है| इससे हम सकारात्मकता को पाते है| इससे हमें हमारे लक्ष्य को प्राप्त करने की प्रेरणा और क्षमता दोनों प्राप्त होती है| ध्यान हमारे मन से अनावश्यक विचारों को निकालकर शुद्ध और आवश्यक विचारों को मस्तिष्क में जगह देता है| तो आइये जाने Meditation Technique in Hindi, मैडिटेशन करने का तरीका|

Meditation Technique in Hindi- जाने ध्यान करने का तरीका

Meditation Technique in Hindi

अपनी आँखों को मूंद कर शांत मन से बैठना हर किसी को कठिन लगता है| हम आपको बतादे की सिर्फ आपको ही नहीं हर वो व्यक्ति जो ध्यान की शुरुवात करता है| उसे ध्यान करने में कठिनाई आती है| यदि आप ध्यान करना चाहते है तो आपको परेशान होने की जरुरत नहीं है| क्योकि एकदम से तो नहीं लेकिन हमें धीरे धीरे ध्यान करते आ जाता है| इसके अतिरिक्त हम आपको कुछ ऐसे उपायो के बारे में बता रहे है, जिससे आपको ध्यान करने में आसानी होगी| आप नियमित रूप से ध्यान कर पाएंगे| तो आइये जाने वो सरल उपाय कौनसे है|

खुशी से करे

यदि आपने ध्यान करने का निर्णय ले लिया है| तो पहले इस बात को जान ले की अगर आप पुरे मन से ध्यान करेंगे तभी आपको ध्यान करने से लाभ मिलेगा| बेमन से ध्यान करने का कोई लाभ नहीं होता है| इसके लिए सबसे पहले अपने चेहरे पर सौम्य मुस्कान बना कर रखें| आप खुद फर्क को महसूस करेंगे | दरहसल निरंतर की गयी सौम्य मुस्कान से व्यक्ति तनाव से मुक्ति पता है औए शांति महसूस करता है| यह आपके ध्यान के अनुभव को भी बढ़ाता है|

जरुरी है शांत वातावरण का चुनाव

आप शायद नहीं जानते होंगे लेकिन ध्यान करना एक तरह का विश्राम है| आप हमेशा जब भी विश्राम करने का सोचते है तो भीड़भाड़ की जगह शांत वातावरण का चुनाव करते है| उसी तरह ध्यान करने के लिए भी सुविधाजनक समय और जगह का चुनाव करे| आपको ऐसा समय चुनना है जिसमे आप को कोई भी परेशान न कर सके और आप स्वतंत्र रूप से विश्राम और आनंद ले सके|

ध्यान का तरीका

Methods of Meditation के अनुसार, इसे करने के लिए सबसे पहले किसी भी सुखासन में आँखे बंद करके शांत बैठ जाये| अब बारी बारी से अपने शरीर के पैर से लेकर अंगूठे तक का अवलोकन करे| इस दौरान महसूस करते जाये की आप जिस जिस अंग का अवलोकन कर रहे है| वह अंग धीरे धीरे स्वस्थ और सुन्दर होता जा रहा है| इसी तरह शरीर और मन को ध्यान करने के लिए तैयार करे| अच्छी सेहत पाने का यह एक बेहतरीन तरीका है|

आप यह भी पढ़ सकते है:- जानिए योगासन के प्रकार और उनसे मिलने वाले लाभ

खाली पेट करे

ध्यान करने से पहले इस बात का ख्याल रहे की इस वक्त आपका पेट खाली हो| अगर आपने ध्यान के लिए रात्रि का समय चुना है तो भोजन से पहले ध्यान का अच्छा समय होता है | भोजन करने के बाद आपको नींद लग सकती है| इसके अतरिक्त आपको यदि बहुत ही ज्यादा भूख लगी हो तो ध्यान करने का अधिक प्रयास न करें| क्योंकि भूख की ऐंठन के कारण, आप ध्यान करते वक्त पुरे वक्त खाना खाने के बारे में सोचेंगे| ऐसी स्तिथि में भोजन कर ले और उसके दो घंटे उपरांत ध्यान करे|

लम्बी गहरी सांस लीजिये

सांस लेने और छोड़ने की क्रिया सही तरह से करने पर ध्यान को केन्द्रित करने में मदद मिलती है| इसलिए जब भी ध्यान करते समय आपका मन अस्थिर होकर भटक रहा हो उस समय श्वसन क्रिया पर ध्यान केन्द्रित करे| इससे आपका मन स्थिर हो जाता है और ध्यान केन्द्रित होने लगता है|  ध्यान करते समय लम्बी गहरी सांस लेकर, धीरे धीरे छोड़ने की क्रिया से बहुत लाभ मिलता है|

ध्यान से जुडी इन बातो को भी जाने

  • ध्यान करने का समय: कोई भी समय चुन सकते है| सुबह, दोपहर, शाम या रात्रि|
  • ध्यान करने का वक्त: पांच मिनट से लेकर आधे घंटे तक ध्यान कर सकते है|
  • ध्यान करने की स्तिथि: सुखासन, पद्मासन आदि|
  • ध्यान करने की उम्र: बच्चे, किशोरी, और बुजुर्ग सभी इसे कर सकते है|
  • ध्यान करने के लाभ: शारीरिक, मानसिक लाभ पाने के लिए|

ऊपर आपने जाना Meditation Technique in Hindi. नियमित ध्यान का अभ्यास करने से आपको ताज़गी का अनुभव होगा| और धीरे धीरे आपको ध्यान करना आ जायेगा| आप इसे कर सकते है| अपने दिनचर्या में दिए गए सिर्फ कुछ मिनट किया गया ध्यान आपको ऊर्जावान रखेगा| इसलिए अपनी दिनचर्या में ध्यान को जरूर जगह दे|

Related Post

शरीर में स्थित कुण्डलिनी चक्र को जाग्रत कर परम आनं... कुंडलिनी चक्र का नाम तो आपने सुना ही होगा| बहुत से लोगो ने यह भी कहा होगा की हमने अपनी कुंडली को जागृत किया है, लेकिन क्या यह इतना आसान है| यह सवाल सभ...
Self Enquiry (I am Meditation): मैं कौन हूँ, मैं क... सेल्फ इन्क्वायरी अर्थात आत्म विचार। इसका मतलब होता है कि “में कौन हु “इसे पाने के लिए हमारी प्रकृति से इसके बारे में खोज करना। स्वयं को जानने के लिए ह...
तुम्मो मैडिटेशन – ठंड के दिनों में आपके शरीर को गर... ठंड के दिनों में पूरा शरीर जकड़ा जकड़ा लगता है, कुछ करने का मन नहीं करता, हम बिस्तर पर ही पढ़े रहते है| ऐसे में ठण्ड के दिनों में बाहर निकलना तो भूल ही ज...
शरीर की शुद्धि और रोगों से मुक्ति के लिए करें षट्क... योग साधना की सभी क्रियाओं का अपना महत्व है। परंतु षट्कर्मो का अपना अलग ही महत्त्व है। योगाभ्यास में सफलता के लिए षट्कर्म के द्वारा शरीर को साफ व शुद्ध...
शारीरिक और आध्यात्मिक दोनों रूपों में लाभकारी है उ... उम्र के साथ व्यक्ति की त्वचा ढीली होने लगती है और पेट बढ़ने लगता है| शरीर की जिन नदियों में रक्त बहता है वे भी कमजोर होने लग जाती है| यह एक क्रम है जो ...
Meta Meditation: प्रेम और दया को जाग्रत करने वाला ... मेटा मेडिटेशन की उत्पत्ति बौद्ध परंपराओं से हुई है। विशेषरूप से इसे थेरवाद और तिब्बतियों द्वारा किया जाता रहा है। मेटा का अर्थ होता है दया, परोपकार और...

You may also like...