Mudra for Weight Loss: जानिए मुद्राओं के अभ्यास से कैसे करे वजन कम

मोटापे को लेकर कई लोग परेशान रहते है और उसे कम करने के कई प्रयास करते है। इस व्यस्त जीवन शैली के कारण भी कुछ लोगो को मोटापा को कम करने का समय नहीं मिल पाता है।

मोटापा होने के कई कारण होते है जैसे लगातार एक ही स्थान पर बैठे रहना, गलत खानपान,अनियमित जीवन शैली आदि।

वजन को कम करने के लिए लोग व्यायाम और कई तकनीकों का भी सहारा लेते है परन्तु इन सब के लिए उन्हें कड़ी मेहनत करनी पड़ती है।

यदि आप भी मोटापे परेशान है इसे कम करना चाहते है तो इसके लिए आप मुद्राओ का अभ्यास कर सकते है। इसके लिए यह जानकारी होना चाहिए कि किन मुद्राओ द्वारा वजन को कम किया जा सकता है। इसके लिए जानते है Mudra for Weight Loss.

Mudra for Weight Loss: वजन कम करने का तरीका

Mudra for Weight Loss in Hindi

खेचरी मुद्रा

  • खेचरी मुद्रा का अभ्यास करके वजन को कम किया जा सकता है। इस मुद्रा में शारीरिक व्यायाम की आवश्यकता नहीं पड़ती है।
  • इस मुद्रा के अभ्यास के लिए केवल मुंह और जीभ का उपयोग किया जाता है।
  • इसे करने के लिए पद्मासन की स्थिति में बैठकर अपनी जीभ को पीछे की तरह धकेलने का प्रयास किया जाता है।

अग्नि मुद्रा

  • अग्नि मुद्रा का नियमित अभ्यास करने से भी वजन धीरे धीरे घटने लगता है।
  • इस मुद्रा में पहले पद्मासन की स्थिति में बैठकर सूर्य वाली अंगुली को हथेलियों की ओर मोड़ना होता है और फिर इसे अंगूठे की सहायता से दबाते है। साथ ही शेष अँगुलियों को सीधा रखा जाता है।
  • इसे करने से पेट से सम्बंधित समस्याएं भी दूर हो जाती है।

ज्ञान मुद्रा

  • ज्ञान मुद्रा के द्वारा भी वजन को कम किया जा सकता है।
  • ज्ञान मुद्रा तनाव को दूर करके मन को शांत करती है। जिसके कारण शरीर स्वस्थ रहता है और मोटापा कम हो जाता है।
  • इस मुद्रा को करने के लिए भी पद्मासन में बैठना होता है।
  • फिर हाथों की तर्जनी उंगली को मोड़कर अंगूठे के अग्रभाग को स्पर्श कराना होता है। बाकी अंगुंलियों को सीधा रखते है।

लिंग मुद्रा

  • लिंग मुद्रा का अभ्यास शरीर में गर्मी को बढ़ाने के लिए विशेष रूप से किया जाता है।
  • शरीर में गर्मी बढ़ने से जमा अतिरिक्त चर्बी पिघलकर नष्ट हो जाती है।
  • इस मुद्रा को करने के लिए पद्मासन की मुद्रा में बैठ कर अपने दोनों हाथो की अँगुलियों को एक दूसरे में फसा ले और एक अंगूठे को सीधा रखे साथ ही दूसरे अंगूठे को सीधे अंगूठे के पीछे से लाये और घेरा बना दे।
  • कुछ देर इसी स्थिति में रहे और सामान्य सांस ले।

व्यान मुद्रा

  • व्यान मुद्रा के द्वारा भी वजन को नियंत्रित किया जाता है।
  • व्यान मुद्रा को करने के लिए पहले पद्मासन में बैठ जाए और फिर हाथ की मध्यमा अंगुली के अग्र भाग को अंगूठे के अग्र से मिलाये साथ ही तर्जनी
  • अंगुली को मध्य की अंगुली के नाखून से छुला दे।
  • इसमें शेष अंगुलियां सीधी होनी चाहिए।

उपरोक्त मुद्राओ को करके आप अपने वजन को कम कर सकते है इसमें आपको शारीरिक श्रम की आवश्यकता नहीं होती है। परन्तु इनका अभ्यास नियमित रूप से करने पर ही लाभ मिलेगा ।

Related Post

सुदर्शन क्रिया: मन को शुद्ध करने का सरल उपाय... सुदर्शन क्रिया मतलब सांसो की गति को इस तरह नियंत्रण करना है जिससे आपके शरीर, दिमाग और फीलिंग्स एक हो जाये| 'सु’का मतलब होता है 'सही’और 'दर्शन’का मतलब ...
पाचनक्रिया दुरुस्त करने और एकाग्रता बढ़ाने में मददग... आजकल की अनियमित जीवनशैली के चलते शरीर कई बीमारियों से घिरा रहता है और व्यक्ति हर पल आलस महसूस करता है| लेकिन यदि योग आसनो का अभ्यास किया जाये तो शरीर ...
नादयोग – ध्वनि से शरीर का उपचार करने की शक्त... नाद का अर्थ है - शब्द, ध्वनि और आवाज। संगीत दामोदर के अनुसार नाद 3 प्रकार के होते है - प्राणिभव, अप्राणिभव,  उभयसंभव| जो अंगों से उत्पन्न किया जाता...
Urdhva Uttanasana: रीढ़ की विकृतियों को दूर कर शरीर... योग एक ऐसा माध्यम होता है जो की शरीर को स्वस्थ रखता है और उसे ऊर्जा से भर देता है। साथ ही रोगों से भी कोसो दूर रखता है।उर्ध्वोत्तानासन में उर्ध्व यानी...
Maha Bandha: बुद्धि को तेज करे, पाचन शक्ति को मजबू... महाबंध में बंध का अर्थ होता है बंधन, गांठ, कसना। इसका अभ्यास कर लेने से प्राणोको शरीर के किसी एक भाग पर बांधा जा सकता है। यह मुद्रा दो बन्धो का सयुक्त...
तुलासन योग – शरीर को संतुलित बनाने में मददगार... योग सेहत को कई सारे लाभ पहुचाता है| इसके फायदों को देखते हुए आज सारा विश्व इसे कर रहा है| इसकी खासियत यह है की यह न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक और आध्या...

You may also like...