Setu Bandha Sarvangasana (Bridge Pose): सेतु बंध सर्वांगासन के अनेको फायदे

सेतु बंध सर्वांगासन जिसे इंग्लिश में Bridge Pose कहते है। सेतु बंध सर्वांगासन एक संस्कृत नाम से बना है। इसमें सेतु का मतलब ब्रिज और बांध का मतलब लॉक होता है, जो शरीर के सभी अंगो के लिए फायदेमंद होता है। यही वजह है कि इसे ब्रिज पोज कहा जाता है।

यह एक बेहतरीन आसन है बॉडी को डिटॉक्सिफाई करने के लिए, इसी के साथ जो लोग योग करने के लिए नए है उनके लिए यह बहुत ही अच्छा है। यह दिखने में थोड़ा कठिन है लेकिन आसानी से किया जा सकता है। साथ ही यह शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद भी होता है।

सेतु बंध सर्वांगासन का अभ्यास करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन सही रहता है और साथ ही यह गर्दन और गले दोनों के लिए ही काफी फायदेमंद होता है। इससे अभ्यास से रीढ़ की हड्डी को भी काफी फायदा पहुँचता है।

आज इस लेख में माध्यम से हम आपको बता रहे कि सेतु बंध सर्वांगासन कैसे किया जाता है और किस तरह आप इसके नियमित अभ्यास से स्वस्थ और सेहतमंद रह सकते है। आइये जानते है Setu Bandha Sarvangasana.

Setu Bandha Sarvangasana: जाने सेतु बंध सर्वांगासन के बारे में

Setu Bandha Sarvangasana जाने सेतु बंध सर्वांगासन के बारे में

Setu Bandha Sarvangasana Steps: जानिए इसे कैसे करना है

  • इस आसन को करने के लिए पहले अपनी मेट पर पीठ के बल लेट जाएं।
  • अब अपने पैरों को घुटनों से मोड़ कर ज़मीन पर रखें।
  • ध्यान रहे कि पैरों की ऐड़िया और घुटने एक सीद में हो।
  • अब साँस लेते हुए धीरे धीरे अपने नितम्बो और पीठ को ऊपर उठाने की कोशिश करें।
  • गर्दन, शोल्डर और सर जमीन पर ही टिके रहेंगे।
  • इसके बाद अपने दोनों हाथों को पीठ के नीचे ज़मीन पर रखकर दोनों हाथों की उंगलियों को आपस में बांध लें।
  • अब अपने शरीर को ऊपर की ओर उठाने का प्रयास करें।
  • जब आप अपनी बॉडी को ऊपर उठाएंगे तो आपकी चीन आपके चेस्ट को टच करेगी।
  • इस स्थिति में पैर, चेस्ट और शोल्डर बॉडी का पूरा भार सँभालते है।
  • इस स्थिति में ध्यान रखे की अपने दोनों पैरों की जांघे बराबर हो, ऊपर नीचे ना हो।
  • अपने दोनों पैरों में समानता बनाये रखे।
  • इस स्थिति में आपको 1 मिनट तक बने रखने की कोशिश करना है।
  • इस पुरे आसन की प्रक्रिया में गहरी और लम्बी सांसे लें।
  • इसके बाद धीरे धीरे फिर से सामान्य अवस्था में आ जाए।

सेतु बंध सर्वांगासन करने से पहले रखें इन बातों का ध्यान

  • इस आसन को तब करें जब आपका पेट बिलकुल खाली हो।
  • अगर आप सुबह के समय यह आसन नहीं कर रहे तो ध्यान रखे की भोजन करने को आपको 4 से 6 घंटे हो चुके हों।
  • इतने समय में आपका भोजन अच्छी तरह से पच जाएगा और आपको इस आसन को करने के लिए ऊर्जा मिल सकेगी।
  • इस आसन को करने का सबसे अच्छा समय होता है सुबह का।
  • अगर समय की कमी हो तो इस आसन को शाम को भी किया जा सकता है।
  • सेतु बंध सर्वांगासन एक बेसिक योगासन है जिसे आराम से किया जा सकता है।
  • इस पोज़ में शरीर को कम से कम 30 से 60 सेकण्ड्स के लिए बनाये रखना चाहिए।
  • इस आसन का प्रभाव ज्यादातर पैरों, पीठ, गर्दन और चेस्ट पर पड़ता है।
  • इस आसान के अभ्यासरत हो जाने के बाद आप अपने दोनों हाथों से पैरों को पकड़ने का प्रयास करें।

सावधानियां

  • ऐसे लोग जिन्हे गर्दन में किसी प्रकार की कोई समस्या है उन्हें इस आसन को नहीं करना चाहिए।
  • और अगर फिर भी इस आसन को करना है तो पहले अपने डॉक्टर से जरूर सलाह लें और किसी योगा सर्टिफाई इंस्ट्रक्टर की सामने ही इस आसन को करें।
  • गर्भवती महिलाएं भी इस आसन को कर सकती है। अगर वो आसानी से इसे कर पा रही हों तो।
  • इसी के साथ गर्भवती महिलाओं को इस आसन का अभ्यास किसी योग एक्सपर्ट के सामने उनकी इंस्ट्रक्शन के अकॉर्डिंग करना चाहिए।
  • अगर गर्भवती महिला के अंत के 3 महीने चल रहे हो तो डॉक्टर से पूछकर ही इस आसन को करें।
  • अगर किसी भी प्रकार की पीठ की समस्या है तो इस आसन को करना अवॉयड करें।

अगर पहली बार कर रहे है सेतु बंध सर्वांगासन

  • इस आसन को पहली बार करने वाले लोगों को इस आसन को आराम से करना चाहिए।
  • अगर इसे करते समय बॉडी पार्ट पर किसी प्रकार का दबाव बने तो इस आसन को उसी समय करना छोड़ दें।
  • इसे करते समय अपने कंधो को अपने कानो से टच ना होने दे।
  • साथ ही ध्यान रखे की आपकी गर्दन ज्यादा स्ट्रेच ना हो जाए।
  • स्टार्टिंग है इसलिए इस पोज़ को सिर्फ 30 सेकंड तक बनाये रखने की कोशिश करें।
  • साथ ही अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखे और उस पर दबाव ना बनने दे।

Bridge Pose Benefits: सेतु बंध सर्वांगासन करने के फायदे

कमर दर्द दूर करे

  • यह आसन कमर दर्द के लिए काफी फायदेमंद साबित होता है।
  • इस आसन का नियमित अभ्यास करने से शरीर से कमर दर्द जल्द ही ख़त्म हो जाता है।
  • इसी के साथ इस आसन को करने से कमर की अच्छी तरह से स्ट्रेचिंग हो जाती है जो दर्द को मिटाने में सहायक होता है।

थाइरोइड की समस्या में फायदेमंद

  • अगर योगासनों में शीर्षासन करने के बाद सेतु बंध सर्वांगासन किया जाये तो थाइरोइड की समस्या में मददगार होता है।
  • इस आसन के अभ्यास से गर्दन में पाई जाने वाली थाइरोइड ग्लैंड की अच्छी तरह से मसाज हो जाती है।
  • इससे थायरोक्सिन हॉर्मोन में मदद मिलती है जो थाइरोइड की समस्या को रोकने में सहायक होती है।

अवसाद को दूर करे

  • इस योगासन को करने से रीढ़ की हड्डी फ्लेक्सिबल बनती है और इसमें लचक देखी जा सकती है।
  • इस आसन का नियमित रूप से अभ्यास करने से रीढ़ की हड्डी के नीचे की नसों में खिचाव पैदा होता है जिससे शरीर को आराम मिलने के साथ साथ डिप्रेशन से लड़ने में भी मदद मिलती है।

वजन कम करने में फायदेमंद

  • इस आसन को नियमित रूप से करने से जांघ और पेट की चर्बी जल्द ही कम होती है।
  • लेकिन इस आसन की स्थिति को अपनी क्षमता अनुसार देर तक बनाए रखने की कोशिश करें।

कब्ज और एसिडिटी से राहत

  • इस आसन का नियमित अभ्यास पाचन सबंधित समस्याओ में भी काफी फायदेमंद साबित होता है।
  • यह एंजाइम के स्राव में मददगार साबित होता है।
  • इस वजह से यह पेट की कई बीमारियों को दूर करने में सक्षम होता है।

टेनिस एल्बो में फायदेमंद

  • सेतु बंध सर्वांगासन करते समय अगर अपने हाथो से अपने पैरों की ऐड़ियो को पकड़ते है तो यह टेनिस एल्बो में काफी फायदा पहुंचाता है।

किडनी की समस्या में फायदेमंद

  • इसका अभ्यास किडनी को हमेशा स्वस्थ बनाये रखने में सक्षम है।

गर्भवती महिलाओं के लिए

  • इस आसन का अभ्यास गर्भवती महिलाओं को तनाव और परेशानियों से मुक्ति प्रदान करता है।
  • साथ ही यह गर्भवती महिलाओं को मानसिक तौर पर शांति प्रदान कर के माँ और बच्चे दोनों को ही स्वस्थ रखने में सहायक होता है।

पैरों को मजबूती प्रदान करे

  • जिन लोगों के पैर कमजोर है और शून्य हो जाते है उन लोगों को इस आसन का अभ्यास जरूर करना चाहिए।
  • और अगर आप काफी थका हुआ महसूस करते है तो इस आसन का अभ्यास आपके लिए काफी फायदेमंद साबित होगा।

इस ऊपर दिए लेख में आज आपने जाना की सेतु बंध सर्वांगासन को करने से शरीर को किस तरह के लाभ मिलते है। साथ ही इसे करते समय किस तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए जिससे की यह आपके लिए फायदेमंद साबित हो। इस आसन के सभी लाभ तब ही मिल पाएंगे जब आप इसका नियमित रूप से अभ्यास करते है।

You may also like...