शिव ध्यान: जीवन में आपके लक्ष्य को समझने में मदद करे

comment 0

जैसा की आप नाम से ही समझ गए होंगे की शिव योग भगवान शिव के साथ जुड़ा हुआ है, जो हिंदू पौराणिक कथाओं में सबसे शक्तिशाली देवताओं में से एक है। शिव जी को सफल योगी के रूप में जाना जाता है और वह द्वैत की दुनिया से संबंधित है।

भगवान शिव को मास्टर ऑफ लाइफ भी कहा जाता है।उन्होंने कई नई ध्यान तकनीकों और विचारों का परिचय दिया है जो आपको तीसरी आंख खोलने और ज्ञान प्राप्त करने में सहायता करते है।

शिव योग के लिए थोड़े से ध्यान और मनन की आवश्यकता होती है। इसलिए जब भी आप ये योग करे तो इसके लिए एक शांत और आनंदपूर्ण वातावरण का चुनाव करे। यह मैडिटेशन आपको शांति और सुख प्रदान करता है|

Shiva Meditation तनाव को कम करने में सहायक होता है। यह आपको जागरूक बनता है आईये जानते है इस मेडिटेशन को कैसे किया जाता है।

Shiva Meditation: भावनाओ को कण्ट्रोल करने वाला ध्यान

Shiva Meditation

शिव ध्यान कैसे करे

  • सबसे पहले आसन पर बैठे।
  • फिर मुट्ठी बनाएं और अपने हाथों को अपने सिर के पास ले जाएं|
  • दोनों हाथो को आपस में मिला ले और खुद से सोचे की “मैं एक विजेता हूं,और मैं अपने लक्ष्यों को प्राप्त करूंगा|
  • अब अपने पैर जमीन से रगड़ें और हिमालय पर्वत के बारे में सोचें।
  • कल्पना कीजिए जैसे आप वहां बैठे हों, अपने आपको बताएं कि आप मजबूत हैं और आप दृढ़ता से विकास करेंगे।
  • अब अगले चरण पर जाने से पहली स्टेप को कम से कम एक मिनट तक का समय दे|
  • ध्यान रखे की आप शांत और रिलेक्स रहे। इसके लिए चाहे तो समय ले सकते है।
  • इसके बाद एक बड़ा सर्किल बनाने के लिए अपने हाथों का उपयोग करें और सितारों से भरा ब्रह्मांड के बारे में सोचें।अपने आप को निम्नलिखित कहें – “मैं ऐसे वातावरण में रहता हूँ जहां सब कुछ सुंदर है मैं चीजों को ठीक तरह से लेना चाहता हूं। “
  • एक बार जब यह हो जाए तब अपनी गर्दन के आसपास कुंडलिनी नाग की कल्पना करो।
  • अपने पैर की उंगलियों को धीरे से मूव करे और फिर अपने आप से कहें कि आप एक हठ योगी हैं, और आप खुद को आध्यात्मिक व्यायाम से बचा सकते हैं।
  • अपना हाथ ले जाएं और सोचें कि आप दुनिया के सभी जीवित प्राणियों के लिए प्रकाश पैदा कर रहे हैं।
  • कहें- “मैं प्रकाश को भेजता हूं …” विश्वास करो कि दुनिया की सभी चीजों को खुश होना चाहिए।
  • शिव का हमेशा मतलब है “अच्छा”| उनका यह शांति और खुशी को संरक्षित करने का लक्ष्य है।
  • इसके बाद अपने दोनों हथेलियों को रगड़ें और आकाश की कल्पना करें जो आपके ऊपर स्थित है।
  • ॐ का जाप करे और अपने आप से कहें कि आप ज्ञान से आशीर्वाद प्राप्त कर रहे हैं और जीवन के रास्ते के हर कदम पर मार्ग को प्रदर्शित करता है।
  • फिर शिव की तस्वीर के बारे में सोचे एक हाथ को उनके नजदीक ले जाकर शिव से कुछ ऊर्जा अवशोषित करें। साथ ही कई बार “ओम नमः शिव”का जाप करे।
  • अंत में, अपने दोनों हाथों को एक साथ लाये और उन्हें अपनी गोद में रखें अपने पैर की उंगलियों को मूव करे और एक मिनट या उससे अधिक समय के लिए ओम शांति का जप करें।
  • प्रत्येक विचार के बाद एक मिनट के लिए रुके।
  • ध्यान रखे की रीढ़ की हड्डी सीधी रह रखें, आपका पेट आराम की अवस्था में होना चाहिए|
  • आपको कुछ नहीं सोचना है, केवल एक स्थान पर बैठना है और आराम करना है|

आप भी इस आसन का अभ्यास कर सकते है, इसके लिए आप योग शिक्षक की मदद भी ले सकते है|

Related Post