Surya Namaskar Benefits in Hindi: सूर्य नमस्कार से शरीर को मिलते हैं जादुई फायदे

हम सभी यह जानते है की शरीर के सही तरह से काम करने के लिए हमारे शरीर को व्यायाम की जरुरत है। आपने अक्सर देखा होगा यदि आप बहुत समय तक किसी मशीन का इस्तेमाल नहीं करते है, तो वो बंद पड़ जाती है, या फिर ठीक से काम नहीं करती। उसी प्रकार हमारे शरीर में भी एक जगह बैठे रहने की वजह से जंग लग जाती है

ऐसे में हमारा शरीर पर मोटापा भी बढ़ते जाता है, और छोटे मोटे काम करने में ही शरीर थक जाता है। इसके अतरिक्त आज की जीवन शैली में तो हमारा खान पान भी सही नहीं है। जिसके चलते हमारे शरीर को कई बीमारिया घेर लेती है।

इन् सब चीज़ो से निजाद पाने का कोई तरीका है तो वो है योग। योग के जरिये आप ना केवल अपने शरीर का स्वास्थ्य सुधार सकते है, बल्कि यह आपके शरीर को ऊर्जा से भर देता है, जिससे आप आलस्य छोड़ देते है। योगो में सबसे ऊपर किसी का नाम है तो वो है सूर्य नमस्कार का।

यह अपने आप में इतना शक्तिशाली है की केवल इसका अभ्यास इंसान को सम्पूर्ण योग व्यायाम के बराबर लाभ पहुँचाता है। इसके नियमित अभ्यास करने से मानव का शरीर निरोग और स्वस्थ होता है। इसे कोई भी कर सकता है। स्त्री, पुरुष, बाल, युवा, वृद्ध सबको इससे फायदा मिलता है। यहाँ जानिए Surya Namaskar Benefits in Hindi.

Surya Namaskar Benefits in Hindi: सूर्य नमस्कार करने के स्वास्थ्यवर्धक लाभ

Surya Namaskar Benefits in Hindi

योग चाहे जो भी हो उसे करने से करने वाले व्यक्ति पर उसके सकारात्मक प्रभाव ज़रुर पड़ते हैं साथ ही स्वास्थ्य सम्बन्धी बहुत सारी समस्याओं से भी निजात मिल जाती है । अगर बात सूर्य नमस्कार की करें तो सूर्य नमस्कार का अभ्यास भी हमें बहुत सारे स्वास्थ्य लाभों का हकदार बना देता है । आइये डालते हैं सूर्य नमस्कार से होने वाले लाभों पर एक नजर।

  • यह शरीर के सभी हिस्सों, मांसपेशियाँ और नसों को क्रियाशील करता है।
  • इसे करने से रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है, और कमर लचीली होती है।
  • सूर्य नमस्कार हृदय और फेफड़ों की कार्यक्षमता को बढ़ाने में भी लाभदायक होता है।
  • सूर्य नमस्कार के नियमित अभ्यास से बालों का सफ़ेद होना और झरना बंद होता है।
  • इसका अभ्यास त्वचा के लिए भी फ़ायदेमंद है, इससे त्वचा के कई रोग दूर होते है।
  • सूर्य नमस्कार क्रोध को नियंत्रित करने में भी कारगर होता है, इससे शरीर का संतुलन बना रहता है, मन शांत रहता है, और आप पूरा दिन अच्छा महसूस करते है।
  • Benefits of Surya Namaskar कई है। सूर्य नमस्कार‍र को हम खुले वातावरण में करते है, जिससे की शरीर को विटामिन-डी मिलता है और हड्डियाँ मजबूत होती हैं।
  • यह शरीर की सभी महत्वपूर्ण ग्रंथियों, जैसे की पैंक्रियाज, थायरॉइड, पिट्यूटरी ग्लैंड आदि को संतुलित करने में सहायक है।
  • इसको नियमित तौर पर करने से मन की एकाग्रता बढ़ती है। मानसिक तनाव, अवसाद, क्रोध, चिड़चिड़ापन, भय आदि के निदान के लिए इसे ज़रुर करना चाहिए।
  • सूर्य नमस्कार से पेट में होने वाली सभी समस्या भी जल्दी ठीक होने लगती है, पाचन क्रिया बढ़ाने के लिए भी यह उत्तम आसान है।
  • इसे रोज करने से रक्त संचालन सुचारू होता है, ब्लड प्रेशर की आशंका घटती है। मेटाबोलिज्म सुधरता है तथा शरीर के सभी अंग सशक्त और क्रियाशील होते हैं।
  • सूर्य नमस्कार वजन घटाने के लिए बेहद लाभदायक माना गया है। इससे ना केवल आपका वजन कम होता है, बल्कि यह आपके शरीर को पूरी तरह से शेप में भी लाता है।

सूर्य नमस्कार करने से पहले इन बातों का रखें ध्यान

  • योग कोई किसी भी प्रकार का आसन हमेशा खुले तथा स्वच्छ स्थान पर ही करना चाहिए।
  • सूर्य नमस्कार को ऐसे कभी न करें, की इसे करने से आपके शरीर के ऊपर कोई दबाव पड़े और आप इससे हाँफने लग जाएँ।
  • सूर्य नमस्कार की क्रिया को करते समय हर बार अपने पैरों को बारी-बारी से आपस में बदलते हुए प्रत्येक पैर पर एक के बाद एक करना चाहिए।

किस वक्त और कैसे कर सकते है सूर्य नमस्कार

  • Surya Namaskar Yoga करने के लिए प्रातः काल का समय सबसे बेहतर होता है। अगर आप इसका अभ्यास सूर्योदय के समय करें तो यह सबसे ज्यादा अच्छा कहलायेगा ।
  • इसका अभ्यास पूरब दिशा अर्थात सूरज की दिशा के तरफ मुह करके करना चाहिए।
  • इसमें तक़रीबन बारह अलग अलग स्थितियां होती है। जिसे बारी बारी से कर के पूरे सूर्य नमस्कार प्रक्रिया को खत्म किया जाता है ।
  • इस आसान को करने के लिए आपको किसी दूसरी बस्तु या साधन की किसी प्रकार की कोई जरुरत नहीं पड़ती है और ना ही इसे करने के लिए किसी तरह का कोई व्यय हीं लगता है।
  • बस जमीन पर एक दरी बिछा कर आप सूर्य नमस्कार की सभु 12 मुद्राएँ आराम से कर सकते हैं और खुद को फिट रख सकते हैं ।
  • इस आसान का अभ्यास करते वक्त एक बात का ख्याल रखन चाहिए की इसे करते वक्त जब साधक पीछे की तरफ मुड़ते है तो अंदर की तरफ सांस भरी जाती है, और जब साधक आगे की तरफ झुक जाता है, तब सांस को बाहर की तरफ छोड़ना होता है।

सूर्य नमस्‍कार को करते वक्त 12 सूर्य मंत्रो का उच्चारण भी किया जाता है। इन सभी 12 उच्चारणों केअलग अलग और विशेष लाभ बताये जाते है।

आइये जाने 12 सूर्य मंत्रो के बारे में।

  1. ॐ मित्राय नमः
  2. ॐ रवये नमः
  3. ॐ सूर्याय नमः
  4. ॐ भानवे नमः
  5. ॐ खगाय नमः
  6. ॐ पूष्णे नमः
  7. ॐ हिरण्यगर्भाय नमः
  8. ॐ मरीचये नमः
  9. ॐ आदित्याय नमः
  10. ॐ सवित्रे नमः
  11. ॐ अर्काय नमः
  12. ॐ भास्कराय नमः
  13. ॐ सवितृ सूर्यनारायणाय नमः

वैसे योग विज्ञान के हिसाब से तो इन मंत्रो का ज्यादा महत्व नहीं होता है परन्तु आप जानते हीं होंगे की ओमकार की ध्वनि हमारे शरीर की आतंरिक शक्तियों को झंकृत कर देती हैं और इस लिहाज से इन मन्त्रों का महत्व होता है और इसके साथ सूर्य नमस्कार का अभ्यास बहुत लाभकारी होता है ।

आज के इस लेख में आपने जाना Surya Namaskar Benefits in Hindi. लेकिन यदि आपको इसका ज्ञान नहीं है तो खुद से इसे करना कभी भी शुरू ना करे क्योंकि इसे सही तरह से ना करने पर आपके शरीर पर इसका गलत प्रभाव भी पड़ सकता है। इसे सीखने के लिए आप किसी योग प्रशिक्षक का सहारा ले सकते हैं ।

You may also like...