पेट की चर्बी घटाने में सहायक है वज्रासन योग, जानिए इसकी विधि

comment 0

आजकल अधिकतर लोगो की जीवनशैली अनियमित हो चुकी है| काम की व्यस्तता के चलते लोगो ने अपने शरीर पर ध्यान देना बिलकुल ही छोड़ दिया है| ना ही कोई व्यायाम को समय देता है और ना ही अच्छा खानपान लेता है| और हम सभी जानते है की अधिकतर लोगो का कार्य घंटो बैठने का होता है, जिसके चलते शरीर पर चर्बी जमना सामान्य बात है| और सबसे ज्यादा चर्बी जमती है पेट और कुलहो पर|

इसके अतिरिक्त तनाव भी शरीर पर वसा जमने का एक मुख्य कारण है| शरीर पर जमा हुआ वसा ना केवल आपको बेढोल दिखाता है बल्कि इससे कई बीमारिया होने का खतरा भी रहता है| मोटे शरीर वालो को मधुमेह, उच्च रक्तचाप, कोलेस्ट्रोल आदि होने की सम्भावनाये रहती है|

इन सभी बीमारियों से दुरी बनाने और शरीर की चर्बी घटाने के लिए अपनी दिनचर्या में योग को शामिल करना चाहिए| योग आपके शरीर को छरहरा रखने और मन को तनाव मुक्त रखने का सबसे अच्छा तरीका है| योग करने में आपको किसी तरह का व्यव भी नहीं लगता है| पेट की चर्बी को कम करने के लिए, पाचन को सुधारने के लिए योगासनों में वज्रासन सबसे प्रभावी है| आइये विस्तार से जाने Vajrasana in Hindi.

Vajrasana in Hindi – वज्रासन कैसे करे और इसके लाभ

Vajrasana in Hindi

वज्रासन दो शब्दों का मेल है वज्र + आसन, वज्र का मतलब होता है कठोर अथवा मजबूत| इस आसन के अभ्यास से शरीर मजबूत बनता है| यह एक साधनात्मक मुद्रा हैं। यह एक मात्र ऐसा आसन है जिसे खाने के बाद भी कर सकते है| इस आसन को दिन या शाम दोनों वक्त कर सकते है|

Vajrasana Steps in Hindi: वज्रासन कैसे करे?

  1. Vajrasana Yoga करने के लिए किसी साफ़ समतल जगह पर दरी बिछाये|
  2. फिर इस पर घुटनों के बल बैठे तथा पंजों को पीछे फैलाकर एक पैर के अंगूठे को दूसरे अंगूठे पर रख दे|
  3. इस मुद्रा में आपके घुटने पास-पास किन्तु एड़ियां अलग-अलग होनी चाहिए।
  4. आपका नितम्ब दोनों पंजो के बिच में होना चाहिए और एड़ियां कूल्हों की तरफ|
  5. अब अपनी हथेलियों को घुटनो पर रखे|
  6. आप अपनी क्षमता के अनुसार वज्रासन का अभ्यास कीजिए।
  7. बाद में वापिस सामान्य अवस्था में आ जाये|
  8. वज्रासन करने के लिए भोजन के बाद पहले 5 मिनट का समय ले फिर इसे करे|
आप यह भी पढ़ सकते है:- हास्य योग कीजिये और अपनी ज़िंदगी को ओर भी बेहतर बनाइये

Vajrasana Benefits in Hindi: वज्रासन के लाभ

  • इस आसन के अभ्यास से पेट और कमर की चर्बी घटती है|
  • हर्निया के रोगियों को इसका अभ्यास करने से फायदा मिलता है|
  • वज्रासन करने से शरीर में रक्तसंचार सुधरता है|
  • वज्रासन से अमलता और गैस की समस्या से निजात मिलती है|
  • वज्रासन से तनाव कम होता है तथा मन को शांति मिलती है|
  • इससे रीढ़ की हड्डी सीधी होती है, तथा बॉडी का पोश्चर सुधरता है|
  • इससे यौन अंगों को शक्ति मिलती है तथा पेशाब की समस्या से निजात मिलती है|
  • वज्रासन Yoga for Weight Loss भी है, तथा इससे जांघो के आसपास की चर्बी भी घटती है|
  • जो लोग अपने शरीर को सुडौल बनाना चाहते है वो इस आसन का अभ्यास जरुर करे|
  • इसका नियमित अभ्यास रीढ़ के नीचले भाग तथा पैरों के तनाव को दूर करता है|
  • भोजन करने के बाद वज्रासन का अभ्यास करने से पाचन प्रणाली सुधरती है और अपचन की समस्या नहीं होती|
  • इसके नियमित अभ्यास से साइटिका में फायदा मिलता है|
  • वज्रासन का नियमित अभ्यास करने से ज्वाइंट पेन, वेरिकोज वेन्स, गठिया आदि रोंग नहीं होते|
  • यह आमाशय और गर्भाशय की मांसपेशियों को शक्ति प्रदान करता है। इसलिए यह आसन महिलाओं के शिशु जन्म में सहायक है।

Vajrasana Precautions: वज्रासन में सावधानिया

  1. जिन लोगो को घुटनो में किसी तरह की परेशानी है उन्हें इस आसन को नहीं करना चाहिए|
  2. बवासीर के मरीजो के लिए भी वज्रासन का अभ्यास मना है|

ऊपर आपने जाना Vajrasana in Hindi. आप भी वज्रासन का अभ्यास कर उपरोक्त लाभ पा सकते है| वज्रासन का अभ्यास करते वक्त आपको एडी में दर्द, या फिर कोई अन्य परेशानी हो रही है तो इसे करना छोड़ दे और चिकित्सक की सलाह से ही इसे करे|

Related Post