जानिए मधुमेह रोगियों के लिए 8 लाभदायक योगासन

comment 0

डायबिटीज अर्थात मधुमेह की बीमारी इन दिनों बहुत आम हो चली है। हर तीसरे चौथे घर में इससे पीड़ित मरीज मिल ही जाता है| आज के वक्त में इसकी समस्या दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है|

मधुमेह की बीमारी तब शुरू होती है, जब शरीर में इंसुलिन की कमी होने लगती है| ऐसे में खून में ब्लड ग्लूकोस की मात्रा बढ़ने लगती है| इंसुलिन ठीक तरह से से नहीं बनने के प्रभाव शरीर के अन्य अंगो पर भी पढता है| इसके मरीजों को किडनी, उच्च रक्तचाप और आंखों की रौशनी कमजोर होना जैसी समस्याए होती है|

मधुमेह से ग्रस्त रोगियों के लिए व्यायाम बहुत जरुरी है| यह शरीर में रक्त के संचार को सुधारता है| अगर व्यायाम की बात की जाये तो ऊपर दी गयी परेशानियों से पूर्ण रूप से छुटकारा पाने के लिए योग पूर्ण रूप से मददगार है। दरहसल मधुमेह होने के पीछे का सबसे बड़ा कारणों में से एक तनाव भी है| योग न केवल शारीरिक बल्कि मानसिक पेरशानी जैसे की तनाव से भी लड़ने का बेहतरीन तरीका है|

योग करने से पैनिक्रियाज के बीटा सेल्स तक रक्त प्रवाह बढ़ जाता है और कोशिकाओं को अधिक ऑक्सीजन मिलता है| फलस्वरूप बीटासेल्स में नयी ऊर्जा आती है और वहां से ज्यादा इंसुलिन स्त्रावित होती है। इन्सुलिन के जरिये रक्त में ग्लूकोज़ का स्तर कम होता है। तो आइये जाने Yoga for Diabetes in Hindi.

Yoga for Diabetes in Hindi- मधुमेह प्रबंधन के लिए योगासन

Yoga for Diabetes in Hindi

मेडिकल साइंस ने भी इस बात की पुष्टि की है कि मधुमेह के लिए योग बहुत लाभदायक हैं। कुछ योग आसनों को करने से इन्सुलिन की सवेंदशीलता भी बढ़ती है| यह रक्त से शर्करा की मात्रा को कम करने के साथ साथ उच्च रक्तचाप और वजन बढ़ने की समस्या को भी ठीक करता है| तो आइये जाने ऐसे की कुछ योग आसनो के बारे में|

हलासन

जो लोग लम्बे समय तक बैठे रहते है, जैसे ऑफिस में काम करने वाले आदि| उनके लिए हलासन काफी फायदेमंद है| इससे शरीर का बिगड़ा हुआ पोश्चर ठीक होता है| दरहसल यह आसान थायराइड ग्रंथि, पैराथायराइड ग्रंथि और पेट के अंगों को उत्तेजित करता है| जिससे की रक्त का प्रवाह दुरुस्त होता है और पाचन क्रिया में सुधार आता है| इस तरह हार्मोन्स का स्तर धीरे धीरे नियंत्रित होता है और मधुमेह में फायदा मिलता है|

कपाल भाति प्राणायाम

जैसा की हम सभी जानते है की मधुमेह होने के पीछे की सबसे बड़ी वजह है तनाव| तनाव और चिंता से शरीर में ग्लुकागोन का स्राव बढ़ता है| जो की ब्लड ग्लूकोज़ लेवल को बढ़ाने वाला हार्मोन है| कपाल भाति प्राणायाम के नियमित अभ्यास से तनाव को कम करने में मदद मिलती है|

कपाल भाति Yoga Asanas for Diabetes से वज़न कम करने और वसा का सही अवशोषण करने में भी मदद करते हैं।कपाल भाति प्राणायाम में गहरी सांस लेना और छोड़ना होता है जो रक्त संचार को दुरुस्त करता है। इससे दिमाग शांत होता है और नर्वस सिस्टम को भी आराम मिलता है।

बलासन

बलासन भी मधुमेह से ग्रसित व्यक्तियों को लिए बहुत लाभदायक आसान है| इस आसान में शरीर बच्चे की तरह मुद्रा में होता है| इसलिए इसे बलासन नाम दिया गया है| यह आसन तनाव और चिंता दूर करने के लिए सबसे अच्छा आसान है| यह आपके जांघो और टखनों की स्ट्रेचिंग करता है। इससे तनाव और थकान से राहत मिलाती है। जिन लोगो को ज्यादा देर बैठने के कारण लोअर बैक पेन होता है, वो भी इस आसान से दूर होता है|

आप यह भी पढ़ सकते है:- सिर्फ बड़े ही नहीं बच्चो के लिए भी फायदेमंद है योग  

धनुरासन

यह आसन को करने से स्ट्रेस कम होता है, कमर मजबूत बनती है| यहाँ तक की माहवारी के दर्द को भी कम करने के लिए भी यह आसान मददगार है| लेकिन यदि किसी व्यक्ति को माइग्रेन, गर्दन में चोट या उच्च रक्चाप की समस्या हो तो वो इस आसान को ना करे|

चक्रासन

यह आसान दिमाग को सुकून दिलाने और तनाव-मुक्त रहने में मदद करता है| इस आसन को करने से पीठ की मांसपेशिया भी रिलैक्स होती है|

पश्चिमोतासन

पश्चिमोतासन भी बेहतरीन Yoga for Diabetes Cure है| इस आसान को करते वक्त शरीर को आगे की तरफ मोड़ा जाता है जिससे चलते रक्त का प्रवाह चेहरे की तरफ हो जाता है। इससे पेट सही तरीके से काम करता है और जांघ की पेशियों के साथ साथ पीठ और बांह की माश्पेसिया भी मजबूत बनती है|

सेतुबंधासन

सेतुबंधासन आसान को करने से ब्लड प्रेशर नियंत्रित रहता है| इस आसान से मस्तिष्क शांत रहता है और पाचन शक्ति सुचारू होती है। इस आसान को करने से मधुमेह जैसी समस्याए नहीं होती है| महिलाओं में मेनोपॉज की स्थिति में भी इस आसान को करने से आराम मिलता है।

वज्रासन

मानसिक शान्ति देने के साथ पाचन तंत्र को ठीक करने के लिए भी वज्रासन करना चाहिए| यह आसान को खाना खाने के बाद भी कर सकते है| इससे पैर की चर्बी और जांघो पर जमा हुआ मास कम होता है|

आज आपने जाना Yoga for Diabetes in Hindi. योग आसनो को हमेशा खाली पेट ही करना चाहिए| और यदि आप शाम के वक्त योग करने का सोचते है तो करीब 4 घंटे पहले कुछ न खाएं|

Related Post