ह्रदय रोंग की संभावनाओ को कम करता है योग

योग के महत्वो और फायदों को जानते हुए आज पूरी दुनिया योग को अपना रही है| योग आपको मजबूत बनाता है, इससे शरीर लचीला बनता है| साथ ही साथ यह आपके मानसिक स्वास्थ्य को भी सुधारता है|

आपने हमेशा देखा होगा को योग से कई बीमारिया दूर होती है| इससे सोंदर्य निखरता है| लेकिन क्या आप जानते है इससे आप अपने दिल की सेहत को भी अच्छा रख सकते है| योग का नियमित अभ्यास आपको ह्रदय के खतरे से दूर रखता है|

अमेरिकी शोधकर्ताओं द्वारा किये गए एक शोध में यह भी पाया गया है कि हृदय रोग के खतरे को कम करने में योग भी उतना ही फायदेमंद है जितना की शारीरिक गतिविधियां जैसे तेज टहलना आदि|

आजकल दिल का दौरा और दिल से जुडी कई समस्याए जैसे की दिल के दौरा आदि बढ़ते जा रहा है| इसलिए आज हम योग आपकी दिल को सेहतमंद रखने के लिए किस तरह फायदेमंद है यह बताने जा रहे है| आइये जानते है Yoga for Heart Health in Hindi.

Yoga for Heart Health in Hindi – सेहतमंद दिल के लिए अपनाये

Yoga for Heart Health in Hindi

ताड़ासन

ताड़ासन योग को करके आप अपने दिल को चुस्त दुरुस्त कर सकते है| यह करने में काफी आसन भी है| इससे आपकी दिल की सेहत तो अच्छी होती है साथ ही यह 20 की उम्र तक लम्बाई बढाने में भी मददगार है|

  • इसे करने के लिए सबसे पहले तो किसी हवादार और समतल जगह का चुनाव करे| फिर अपने पैरों को एक साथ मिलाकर खड़े हो जाएं। दोनों हाथो को सीधे निचे ही रखे|
  • अब अपने दोनों हाथों को मिलाकर ऊपर की उठाकर मिलाये, और पंजो पर जोर देते हुए शरीर को ऊपर की और तान दे|
  • इस आसन में आपके शरीर की अवस्था एक ताड़ के पेड़ के समान होगी|
  • इसमें आपके शरीर का भार पैरों के पंजों पर होगा, जब आप ऊपर की और उठते है आपको अन्दर की और सांस लेनी है|
  • कुछ सेकंड्स उसी अवस्था में बने रहे, कमर-गर्दन बिल्कुल सीधी रखें| बाद में सांस छोड़ते हुए निचे की और आ जाये|
  • ताड़ासन का अभ्यास कम से कम 5 से 6 बार अवश्य करें।
  • यदि आप ताड़ासन के और भी कई लाभ जानना चाहते है तो यहाँ देखिये, Tadasana Benefits in Hindi.

अनुलोम-विलोम

दिल के दौरा आने की वजह से कई लोगो की अकारण ही मौत हो जाती है| अनुलोम-विलोम की मदद से आप अपने दिल को सेहतमंद रख सकते है| यह Best Yoga for Heart है|

  • इसे करने के लिए सबसे पहले दरी बिछाकर बैठ जाएं| फिर अपने बाएं पैर को घुटने की और से मोड़कर दाईं जांघ पर और दाएं पैर को मोड़कर बाई जांघ पर रखें।
  • अब अपने दाहिने हाथ के अंगूठे से नाक के दाएं छिद्र को बंद करे और नाक के बाएं छिद्र से सांस को भर|
  • अब आपको बायीं नाक को अंगूठे के बगल वाली दो अंगुलियों से बंद करना है| उसके बाद दाहिनी नाक से अंगूठे को हटा दें और दायीं नाक से सांस को बाहर निकालें।
आप यह भी पड़ सकते है:- योग की मदद से पाएं पीसीओएस की समस्या से निजात

सुखासन

जैसा की नाम से ही प्रतीत हो रहा है की सुखासन का मतलब सुख को देने वाला आसन है| इस आसन को करने से आपको सुख की प्राप्ति होती है| यह आपके सारे तनाव दूर कर देता है और इससे आपको आत्मिक शांति मिलती है| यदि आप योग के शुरुवाती है तब तो आपको यह आसन जरुर ही करना चाहिए|

  • इसे करने के लिए समतल जगह पर चटाई बीछाकर दोनों घुटनों को मोड, इस वक्त आपकी गर्दन,  कमर और पीठ सीधी रहनी चाहिए|
  • अपनी हथेलियों को सीधा रखिये और हथेली का उपरी हिस्सा जांघो पर रखे|
  • अब अपने अंगूठे के बगल वाली उंगली के अग्र भाग को अंगूठे से छुए तथा अन्य तीनों उंगलियों को सीधी रखिए।
  • इस आसन का अभ्यास करने पर रक्त का संचार सही होता है, जिससे कोलेस्ट्रॉल नहीं होता, जो की ह्रदय रोंग होने की एक मुख्य वजह है|
  • यह आसन आपको अन्दर से मजबूत बनाता है तथा इसे करने से आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली मजबूत होती है|

ऊपर आपने जाना Yoga for Heart Health in Hindi. उपरोक्त सभी आसनों को करकर आपके दिल की सेहत अच्छी रह सकती है| इसके अलवा और भी आसन जैसे की ॐ मंत्र, धनुरासन, शवासन आदि|

You may also like...