Yoga for Knee Pain: घुटनों के दर्द को दूर करने के 5 प्रभावी योगासन

comment 0

आज के समय में घुटनो और जोड़ो के दर्द की समस्या बहुत ही बढ़ गयी है| यह आजकल हर उम्र के लोगो को हो रही है जबकि पहले 60 की उम्र के बाद ही लोग घुटनो के दर्द से परेशान होते है।

कभी कभी घुटनों में दर्द बहुत पीड़ादायक होता है। घुटने से ही पैरों को मोड़ने की क्षमता मिलती हैI और यदि इसमें दर्द हो तो चलने में भी परेशानी होती है, उठना बैठना मुश्किल हो जाता है।

घुटनो के दर्द को दवाईओ द्वारा कुछ हद तक ठीक किया जा सकता है परन्तु इसका जड़ से इलाज होना मुश्किल होता है। घुटनो के दर्द के मुख्य कारणों को देखे तो वो है वजन का ज्यादा होना या फिर उम्र का बढ़ना।

इसके अलावा भी घुटनो के दर्द के कई कारण हो सकते है। योग के द्वारा घुटनो के दर्द को कम किया जा सकता है। आइये जानते है Yoga for Knee Pain, घुटनों के दर्द को दूर करने के लिए फायदेमंद आसनो के बारे में|

Yoga for Knee Pain: घुटनो के दर्द से राहत दिलाये

Yoga for Knee Pain

पर्वतासन

पादहस्तासन करते हुए हाथों को आगे की ओर ले जाते हुए फर्श पर रखते है। साथ ही पैरों को पीछे की ओर ले जाते है। ऐसा करने से एक पर्वत का आकार बनता है। इसमें रीढ़ की हड्डी और घुटने सीधे रहते है। जिसके कारण घुटनो का दर्द कम हो जाता है।

त्रिकोणासन

इस आसन में पैरों को फैलाकर कमर से झुकना होता है। साथ ही दाये हाँथ से बाया पैर और बाये हाँथ से दाये पैर को क्रम अनुसार छूते है। इस आसन को करने से टांगे और घुटने मजबूत होते है। घुटने के दर्द से भी राहत मिलती हैI

ताड़ासन

खड़े हो जाए और पीठ को सीधा कर ले। इसके बाद धीरे धीरे पंजो के बल पर खड़े होकर जितना हो सके उतना खींचे। इस तरह बार बार करे। कुछ देर तक इसी स्थिति में रुके रहे। यह आसन घुटनो के स्नायु को मजबूत करता है। कद को बढ़ाने के लिए लाभकारी होता है।

भुजंगासन

इस आसन में पेट के बल लेट जाए और फिर हाँथ के पंजों को जमीन पर सटा कर रखे। और कोहनी को थोड़ा खोलकर शरीर के आगे के भाग को ऊपर की तरफ उठाये। ध्यान रहे की कोहनी थोड़ी मुड़ी हुयी होनी चाहिए। यह आसन मोटापे को दूर करने के लिए लाभदायी होता है जिससे घुटनो को भी दर्द नहीं होता है। यह रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है।

पादहस्तासन

इस आसन में सीधे खड़े हो जाए फिर कमर को झुकाये और घुटनो को बिना मोड पैरो को छुए। इस आसन द्वारा जांघो को मजबूती मिलती है। पीठ और रीढ़ की हड्डी को यह आसन मजबूत और लचीला भी बनाता है। अस्थमा जैसे रोगो को दूर करने में भी यह सहायक है|

ऊपरोक्त आसन घुटनो के दर्द में फायदेमंद है| इसके अतिरिक्त आप अश्व संचालनासन, मकरासन, वीरासन, वीरभद्रासन, धनुरासन, सेतु बंध आसन, उष्ट्रासन, मकर अधोमुख श्वानासन भी कर सकते है।

Related Post