नॉर्मल डिलिवरी में मददगार है योग के यह आसन

गर्भावस्था का समय हर महिला के बेहद ही नाजुक और संवेदनशील होता है। इस समय गर्भवती महिला कोअपने स्वास्थ्य के प्रति बहुत अधिक सजग रहने की जरूरत होती है| दरहसल इस वक्त होने वाली थोड़ी सी भी असावधानी आने वाले शिशु के लिए खतरा बन सकती है| इसलिए होने वाली को इन दिनों एक अनजाना सा भय भी बना रहता है|

प्रेगेनेंसीय के वक्त हर महिला चिंताओं में डूबी रहती है| जैसे की उसका बच्चा स्वस्थ होगा या नहीं, इसके अतिरिक्त उसकी डिलीवरी नॉर्मल होगी या नहीं आदि बातें उसे परेशान करती रहती है|

लगभग हर महिला चाहती है कि उसी डिलीवरी नॉर्मल हो किन्तु कई बार परिस्थ‍ितियां ऐसी हो जाती हैं ऑपरेशन ही करना पड़ता है| इसके पीछे का मुख्या कारण गलत खानपान और बिलकुल व्यायाम ना करना होता है| इसलिए आजकल गर्भवती महिला की सामान्य डिलीवरी ना के बराबर हो गई है।

यदि आप गर्भवती है और सर्जरी के बिना नॉर्मल डिलीवरी कराना चाहती है तो परेशान मत होइए बस योग को अपनी लाइफ का हिस्सा बना लीजिये| आइये जानते है Yoga for Normal Delivery in Hindi.

Yoga for Normal Delivery in Hindi – सामान्य डिलीवरी के लिए

Yoga for Normal Delivery in Hindi

तितली आसन – बटरफ्लाई

तितली आसन में पैरों को तितली के पंख के समान हिलाया जाता है, इसलिए ही इसे तितली आसन कहा जाता है| गर्भवती महिलाओ के लिए यह बहुत ही फायदेमंद आसन है| गर्भवती महिलाये इसे

  • गर्भावस्था के तीसरे महीने से कर सकते है|
  • इससे शरीर के शरीर का लचीलापन बढ़ता है|
  • तितली आसन का अभ्यास गर्भावस्था के दौरान महिलाओं के यूटेरस की मांसपेशियों को लचीला बनाता है
  • यह कमर को मजबूत कर, कमर दर्द से भी निजात दिलाता है|
  • यदि इस आसन को करते वक्त आपको कमर के निचले हिस्से में दर्द महसूस हो तो इसे बिल्कुल भी न करें|

पश्चिमोत्तानासन – सीटेड फॉरवर्ड बेंड 

पश्चिमोत्तानासन का अभ्यास भी नार्मल डिलीवरी होने में मददगार है| इस आसन का अभ्यास गर्भाशय से संबंधी शरीर के स्नायुजाल को ठीक करता है। लेकिन एक बात का ख्याल रखे की इसे करने के बाद  रीढ़ को पीछे झुकाने वाला कोई भी अासन करना चाहिए।

  • इससे गर्भावस्था के दौरान करने पर रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है ।
  • इसे करने पर कमर दर्द भी कम होता है|
  • इससे तनाव कम होता है और मांसपेशियां लचीली बनी रहेगी।
आप यह भी पढ़ सकते है:- योग करने से पहले इन नियमों को जरूर जान ले

अन्य आसन इन्हें भी जानिए:-

बद्ध कोणासन – नार्मल डिलीवरी के लिए गर्भवती अौरतों को बद्ध कोणासन करना चाहिए। इस आसन से प्रसव के दौरान कम दर्द होता है|

अनुलोम विलोम – प्रेगनेंसी के दौरान अनुलोम विलोम का अभ्यास करने से शरीर में रक्त का संचार बढ़ता है और ब्लड प्रेशर नियंत्रित होता है, जिसके चलते इस दौरान महिलाये तनावरहित रहती हैं|

पर्वतासन – गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक कमर दर्द होता है| इससे बचने के लिए पर्वतासन बहुत लाभकारी है|

उष्ट्रासन – यह आसन गर्भधारण में भी मदद करता है, और गर्भावस्था में भी फायदेमंद है| इसे करने से खून का प्रवाह सुचारू होता है|

पश्चिमोत्तानासन – यह आसन स्त्रियों के लिए भी लाभकारी है| इस आसन से गर्भाशय से सम्बन्धी शरीर के स्नायुजाल ठीक होते है।इससे गर्भावस्था के दौरान रीढ़ की हड्डी मजबूत होती है|

ऊपर आपने जाना Yoga for Normal Delivery in Hindi. आप भी योग की मदद से अपने डिलीवरी को नार्मल होने में मदद कर सकते है| इसके अतिरिक्त जो महिलाये योग करती है उन्हें प्रसव के दौरान दर्द भी कम होता है| किन्तु एक बात का ख्याल रखे की गर्भावस्था में योग करते हुए बहुत ही सावधानी बरतने की आश्यकता होती है| थोड़ी सी भी लापरवाही से बड़ी समस्या उत्त्पन्न हो सकती है| इसलिए गर्भावस्था में कुछ चुने हुए योग  ही करने चाहिए, साथ ही पहले चिकित्सक से परामर्श ले लेना चाहिए|

You may also like...