साइनस के उपचार के लिए ख़ास योग-आसन

साइनस आज दुनिया की एक आम बीमारी हो गई है। साइनोसाइटिस की बीमारी तब होती है, जब हमारे चेहरे की हड्डियों के पीछे मौजूद हवा से भरे साइनस गम्भीर और बहुत ज्यादा सूज जाते हैं।  साइनस की बीमारी किसी भी उम्र के व्यक्ति को हो सकती है और इस बीमारी के होने के कई कारण हो सकते हैं। शारीरिक विकार जैसे कि- पेट की समस्या, नाक की हड्डियों में सूजन की समस्या आदि  इसके मुख्य कारण होते हैं। इसके अलावा भी वायरल संक्रमण, बैक्टेरियल और फंगल अटैक्स भी साइनस की बिमारी के अन्य कारण होते हैं।

साइनस की बीमारी किस वजह से हो रही है सर्दी और फ्लू वायरस की वजह से या फिर बेक्टेरिया की वजह से, यह पता लगाने से इसके इलाज में आसानी होती है। योग, साइनस की बीमारी से मुक्ति प्रदान कर सकता है और इससे होने वाले दुष्प्रभाव से भी छुटकारा दिला सकता है।

यह व्यक्ति के शरीर को संतुलित करने में मदद करता है, साथ ही साथ माइग्रेन और अन्य नाक संबंधी परेशानियों से भी राहत प्रदान करता है। श्वास लेना भी योग का एक भाग होता है, इसलिए योग करने से नाक की मांसपेशियों को भी आराम मिलता है। आइये विस्तार से जानते हैं Yoga for Sinus in Hindi.

समस्या के उचित निदान के लिए जाने Yoga for Sinus in Hindi

Yoga for Sinus in Hindi

पवनमुक्तासन

यह आसन पाचक-ग्रंथि और पेट के अन्य अंगों को सक्रिय रखता है और गैस व अम्लता आदि की समस्या से राहत प्रदान करता है। इतना ही नहीं, यह हिप-जॉइंट्स को ढीला करता है और पेट की मांसपेशियों और आंतो को सक्रिय करता है, जिससे पेट की समस्या दूर हो जाती है और साइनस की समस्या भी काफी हद तक ठीक हो जाती है।

कपालभाती

कपालभाती दो शब्दों से मिलकर बन है. कपाल का अर्थ होता है- खोपड़ी और भाती का अर्थ होता है- चमक. अर्थात, कपालभाती खोपड़ी में चमक लाने के लिए योगासन है| यह मानसिक रूप से सुधार करने में मदद करता है और सर के आसपास के क्षेत्र को ताज़ा रखता है| हमेशा यह ध्यान रखना चाहिए कि जब भी आप प्राणायाम करें, उसे करने से पहले कपालभाती जरूर करें, क्योंकि ऐसा करने से ऑक्सीजन और कार्बन डाइऑक्साइड का निर्बाध प्रवाह बना रहता है।

साइनस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए यह एक बहुत ही अद्भुत योग है, इसे नियमित रूप से करने से यह श्वास के मार्ग में आने वाली रुकावटों को साफ़ कर देता है। इसका 10 मिनिट तक रोज़ाना अभ्यास करने से यह वजन कम करने में भी मदद करता है।

साइनस के अलावा यह योग सर्दी, खासी, कफ आदि समस्याओं के उपचार के लिए भी यह सहायक होता है। इस योग को करने से पेट के अंगो को आराम मिलता है और पाचन संबंधी विकारों का भी इलाज हो जाता है। इतना ही नहीं यह फेफड़ों की क्षमता बढ़ाने, स्मृति तेज़ करने और अन्य विकारों के उपचार के लिए भी फायदेमंद है।

भस्त्रिका प्राणायाम

भस्त्रिका शब्द भस्त्र से बन है, जिसका मतलब होता है- बार बार तीव्र गति से श्वास लेना और छोड़ना। यह प्राणायाम सर्दी और नाक से संबधित समस्याओं के लिए अच्छा होता है। विशेषकर यह आसन साइनस की बिमारी से राहत प्रदान करता है। भस्त्रिका प्राणायाम Yoga for Sinus Relief के अलावा गले की सूजन को ठीक करता है और अस्थमा से भी बचाता है।

अनुलोम विलोम प्राणायाम

अनुलोम विलोम प्राणायाम को नाड़ीशोधन प्राणायाम भी कहते हैं। यह रोज़ाना अभ्यास करने से नाड़ी को अच्छी तरह से शुद्ध करता है और श्वास के प्रभाव को आसान बनाता है। यह नाड़ी से अवरोध को हटाने में मदद करता है और जिससे शरीर में ऊर्जा का प्रभाव अच्छे से होने लगता है।

यह योग नाक संबंधी समस्याओं और बीमारियों के इलाज के लिए बहुत लाभकारी है यह मस्तिष्क में रक्त के प्रभाव को भी बनाए रखता है और तनाव को कम करता है, जिससे मन को शांति मिलती है। इस योग को करने से सीधे मस्तिष्क की तसल्ली केंद्र (Calming Centre) प्रभावित होती है और पूरे शरीर में ऑक्सीजन का निर्बाध प्रवाह बना रहता है।

सूर्यभेदी प्राणायाम

सूर्यभेदी प्राणायाम दो शब्दों से मिलकर बना है- सूर्य और भेदंड। यह प्राणायाम साइनस में पाये जाने वाले कीटाणु और कीड़ों को खत्म कर देते है। इसे करने से साइनोसाइटिस की समस्या से तत्काल राहत मिलती है, और यह साइनस को सुचारु रूप से संचालित करने में मददगार होता है। इसके अलावा, यह आँतों से भी कीटाणुओं को खत्म करता है और निम्न रक्तचाप (Low Blood Pressure) से पीड़ित व्यक्ति में सिम्पैथेटिक नर्वस सिस्टम को सक्रिय करता है, जिससे रक्तचाप बढ़ने लगता है।

ऊपर आपने जाना Yoga for Sinus in Hindi. साइनस की समस्या से छुटकारा पाने के लिए दिए हुए योग का नियमित रूप से अभ्यास अवश्य करें।

Related Post

Yoga Poses for Eczema – एक्जिमा (चर्म रोग) स... त्वचा शरीर में सबसे बड़ा अंग है, वजन और सतह क्षेत्र दोनों के संदर्भ में। यह हमारे शरीर का रक्षा कवच है, इसलिए इसका ख्याल रखना बहुत ही आवश्यक होता है न...
Yoga for Common Diseases: जानिए रोगों को दूर करने ... शरीर को रोग मुक्त रखने और स्वस्थ बनाने के लिए योग एक अच्छा माध्यम होता है। योग द्वारा तंदुरुस्त तन और सुंदर मन प्राप्त होता है। योग का अभ्यास करने ...
Benefits of Yoga in the Morning: जाने सुबह योगासन ... सभी लोग जानते है योग करना कितना ज्यादा फ़ायदेमंद होता है और साथ ही यह आपको कई प्रकार की बीमारियों से दूर रखने में भी सक्षम होता है। यह आपको हमेशा स्वस...
इन बॉलीवुड सेलेब्रिटीज की फिटनेस का राज है योग... आज के दौर में खुद को फिट रखने के लिए सेलिब्रिटी भी योगा का सहारा लेती है। जिससे उनकी हेल्थ अच्छी रहे और वो फिट दिखे| आपने मूवीज में देखा होगा की लगभग ...
बिजी लाइफस्टाइल? घर पर योग करने के लिए जानिए यह टि... योग के फायदों से अब हर कोई परिचित हो चूका है, इसलिए हर व्यक्ति इसे करके इसका लाभ उठाना चाहता है| योग के अभ्यास से आप ना केवल कई बीमारियों से निजात पा ...
शरीर के रोगों को नष्ट कर शक्ति प्रदान करे धौति क्र... किसी भी प्रकार का योग, प्राणायाम और क्रिया मनुष्य के लिए बेहद ही फायदेमंद है, क्योकि यह शरीर को आंतरिक और बाह्य दोनों के लिए स्वास्थवर्धक साबित होते ह...

You may also like...