जानिए मैट पर योग करने का क्या महत्व है, इसके क्या फायदे है?

आज के वक्त में हर कोई योग के महत्व को जान चूका है| बहुत से लोग योग के बारे में जानकारी इन्टरनेट के जरिये हासिल करते है| जब भी आपने किसी योग आसन को करने की विधि देखी होगी, तो पहली लाइन यही पढ़ी होगी की किसी समतल जगह का चुनाव कर उस पर आसन बिछा ले|

जिस आसन पर हम योग का अभ्यास करते है उसे योग मैट कहा जाता है| बाजार में कई प्रकार के योग मैट मौजूद हैं, ऐसे में हर किसी को कनफ्यूज़न रहता है की उन्हें किस तरह के मैट का इस्तेमाल करना चाहिए| तो आइये आज के लेख में हम जानते है Yoga Mat से जुड़ी कुछ जरूरी जानकारियां।

Yoga Mat – इसे इस्तेमाल करने के क्या फायदे है?

Yoga Mat

योग की शुरुवात करने वाले कई लोगो के मन में यह सवाल रहता है की क्या योग करते वक्त योग मैट का इस्तेमाल जरुरी है? आज के लेख में हम आपको उन्ही सवालो के जवाब देने की कोशिश करे| इस बारे में यदि आप  योगा एक्सपर्ट से पूछेंगे तो उनका जवाब यह होगा की यदि आप एडवांस्ड योग कर रहें हो तब आप गिर सकते है और आपको चोट लग सकती है|

ऐसे में यदि आपने एक मोटी और ना फिसलने वाली योग मैट लेकर रखी हो तो यह आपको किसी भी प्रकार की चोट से बचाने में मदद करती है| लेकिन यदि आप स्थिर रहने वाले योग आसन जैसे कि उत्तासन, बालासन, तितली आसन आदि करते है तो इन्हें सीधे फ्लोर पर ही किया जा सकता है|

योग मैट का प्रारंभ कैसे हुआ?

अगर हम पुराने ज़माने की बात करे तो योगियों ने योग करने के लिए पानी वाली जगह, चट्टानों, पहाड़ो आदि जगह पर जाकर योग का अभ्यास किया था| तब वे घास या जानवरों की खाल से बनाए मैट्स का इस्तेमाल किया करते थे|

लेकिन अब तो घरो में, क्लासेज में याने की सिटी में ही लोग योग का अभ्यास करने लगे है| तो आप सिंथेटिक मेट या फिर हाथ से बने मैट का इस्तेमाल कर सकते है|

योग मैट का इस्तेमाल क्यों करना चाहिए?

यदि देखा जाये तो मैट का इस्तेमाल करना कोई कम्पल्सन नहीं है, लेकिन कई आसनों को करते वक्त आपको इसकी जरुरत पढ़ती है, इसलिए जरूरत के हिसाब से मैट का इस्तेमाल करना सही भी है।

  • दरहसल मैट एक गद्दी का काम करता है जो न केवल आसनों को करने में सपोर्ट देता है बल्कि कई बार चोट लगने से भी बचाता है|
  • कुछ लोगो को ज़मीन पर योग करने के दौरान उनकी हथेलियों, घुटने, कोहनी आदि को दबाने पर दर्द और असुविधा होती है। ऐसे लोगो के लिए मेट बहुत सहायक है|
  • कुछ आसनों को सीधे फ्लोर पर बिलकुल नहीं किया जाता है। क्योंकि इससे कलाइयों पर ज्यादा जोर पड़ता है।

कच्चे सिल्क का योग मैट है बेहतर

यदि आप एक घरेलू व्यक्ति हैं| कहने का तात्पर्य यह है की यदि आप रोज सुबह एक ही घर में जागते हैं| तो आपको योग के लिए रबर से बने मैट की जगह सूती या कच्चे सिल्क के मैट का इस्तेमाल करना चाहिए| क्योकी हमारे शरीर के पांच तत्वों में से एक तत्व प्रथ्वी तत्व है और सूती से बना मैट आपको धरती से जोड़े रखेगा| यह Best Yoga Mat है|

ऊपर आपने जाना Yoga Mat के बारे में| कुछ लोग यह भी कहते है की क्या हम बिस्तर पर योग कर सकते है| हम आपको बता दे की हां आप कर सकते है, लेकिन इस पर बैलेंस बनाना मुश्किल होता है| इसलिए इस बात का ख्याल रखें कि योग करते समय आपका गद्दा बिलकुल समतल हो। दरहसल योग मैट ना होने पर आपकी प्रैक्टिस पर कोई असर नहीं पढता है, लेकिन यह आपको प्रैक्टिस करने में वाकई मदद करता है।

You may also like...