शरीर को स्वस्थ बनाने में सहायक है योग मुद्राए, विधि जानिए

comment 0

खुद को स्वस्थ रखने के लिए योग से बेहतर कुछ भी नहीं है| यह बिना किसी व्यय के आपको कई सारी शारीरक और मानसिक परिस्तिथियों से निजात दिलाता है| यह एक प्राचीन उपचार पद्धति है| इसके लाभों को देखते हुए आज पूरा विश्व इसे अपना रहा है| यदि हम योग की बात करे तो इसमें आसनों के अलावा कई सारी मुद्राए भी शामिल है|

योगासनों की तरह यह मुद्रा भी हमारे स्वास्थ्य को कई फायदे पहुचाती है| आयुर्वेद के अनुसार योग मुद्रा आपके शरीर को हील करने में मदद करती है| आयुर्वेद की माने तो हमारे शरीर में असंतुलन के कारण बीमारिया होती है| यह बिमारी हमारे शरीर में किसी एक तत्व के कम होने के कारण होती है|

क्या आप जानते है की हमारे शरीर में कई परेशानी वायु के बनने के कारण होती है| योग मुद्रा का अभ्यास करने से शरीर में वायु बनने की समस्या दूर हो जाती है| इन योग मुद्राओ को नियमित रूप से करके आप कई तरह के स्वास्थ्य लाभ प्राप्त कर सकते है| आइये आज के लेख में विस्तार पूर्वक जानते है Yoga Mudra in Hindi.

Yoga Mudra in Hindi: योग मुद्राओ के प्रकार और लाभ

Yoga Mudra in Hindi

अग्नि मुद्रा

अग्नि मुद्रा को करने का सबसे अच्छा समय सुबह का होता है| यह हमारे शरीर में अग्नी तत्व को नियंत्रित करती है| जब आप अपने दोनों हाथो को अंगूठे को आपस में मिलाते है तो यह मुद्रा बनती है| लेकिन इस वक्त आपकी बाकी की उंगलिया खुली होना चाहिए|

जो लोग अपने वजन को घटाना चाहते है उनके लिए यह मुद्रा काफी फायदेमंद है| Yoga Mudra for Weight Loss में यह सबसे प्रभावी है|

  • इस मुद्रा को करने से आपके कई सारे रोंग जैसे खासी, सांस का रोंग, जुकाम आदि ठीक हो जाते है|
  • यह निमोनिया में भी फायदेमंद है क्योकि इससे शरीर में अग्नि तत्व बढ़ता है|

चिन्मय मुद्रा

इस मुद्रा में आपके हाथ का अंगूठा और तर्जनी उंगली मिलकर एक रिंग की तरह बना लेते है और बाकी की उंगलियों को मोड़कर अपने हाथ की हथेली के तरफ कर लेते है| आपके हाथो को जन्घो के ऊपर रखकर हाथ की हथेलियों को ऊपर की और रखते है इसके बाद गहरी सांस लेते है|

  • इससे हमारे शरीर में पाचन तंत्र ठीक रहता है|
  • इससे हमारे शरीर में रक्त का प्रवाह सही रहता है|
आप यह भी पढ़ सकते है:- पृथ्वी मुद्रा: जानिए इसकी विधि और स्वास्थ्य के लिए इसके फायदे

वायु मुद्रा

वायु मुद्रा को करने के लिए अपने हाथ की तर्जनी उंगली को मोड़कर अंगूठे की जड़ में लगा ले| इसके अलावा आपके हाथ की बाकी सारी उंगलियां बिल्कुल सीधी रहेगी। इस मुद्रा को करने के लिए आप वज्रासन की तरह दोनों पैरों के घुटनों को मोड़कर बैठ जाएं।

इस वक्त आप अपनी रीढ़ की हड्डी बिल्कुल सीधी रखे और नितम्ब को एड़ियों पर टिका दे| जिन लोगों को गैस की समस्या हो उनके लिए तो यह आसन बहुत ही फायदेमंद है| भोजन को करने के बाद 5 मिनट तक इस मुद्रा का अभ्यास करना चाहिए|

  • जिन लोगो को कब्ज की समस्या बनी रहती है उन्हें इस आसन का अभ्यास जरुर करना चाहिए|
  • इससे एसिडिटी, दस्त के अलावा और भी कई उदर रोगों में राहत मिलती है|

प्राण मुद्रा

प्राण मुद्रा एक बहुत ही महत्वपूर्ण मुद्रा है क्योकि यह मुद्रा आपकी जिंदगी से जुडी होती है| इस मुद्रा को आप दिन में किसी भी वक्त कर सकते हैं। इसे करने के लिए अपनी छोटी अँगुली और अनामिका अँगुली दोनों को अँगूठे से स्पर्श करो। इस स्थिति में आपकी छूट गई अँगुलियों को सीधा करे| इसे सीधा करने के बाद इनसे वी का आकार दिखेगा|

  • यह मुद्रा आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढाने में मदद करती है| इससे आपकी आंखे तेज होती है और शरीर की थकान मिटती है|
  • इससे हमारे शरीर को शक्ति और स्फूर्ति मिलती है जिसके चलते व्यक्ति मानसिक रूप से स्वस्थ रहता है।
  • यह मुद्रा आपके आँखों की रौशनी बढ़ाती है|
  • फेंफड़े के रोग में भी यह बहुत लाभदायक सि‍द्ध होती है।

शून्य मुद्रा

उम्र के बढ़ने पर कानो से कम सुनाई देता है| इस तरह की परेशानी से बचने के लिए शून्य मुद्रा का अभ्यास फायदेमंद है| इससे आपके सुनने की क्षमता बढती है और कानो में यदि दर्द हो तो वो भी दूर हो जाता है| इसे करने के लिए मध्यमा अँगुली को हथेलियों की ओर मोड़ते हुए अँगूठे से उसके प्रथम पोर को दबाते है और बाकी की अँगुलियों को सीधा रखते हैं। इसे ही शून्य मुद्रा कहा जाता है|

  • इसके नियमित अभ्यास से कोलेस्ट्रोल की समस्या कम होती है|
  • वजन घटाने के लिए भी यह मुद्रा फायदेमंद है|
  • इससे आपका स्वास्थय सुधरता है क्योकि यह पेट संबंधी रोगों को दूर करता है|
  • इससे आपका दिमाग शांत रहता है और तनाव दूर रहता है|

ऊपर आपने जाना Yoga Mudra in Hindi. यह मुद्राए आपको कई तरह के फायदे पहुचाती है| अपने स्वास्थ्य को बेहतर बनाने के लिए आपको इनके लिए थोडा वक्त जरुर निकालना चाहिए|

Related Post