Yoga Sequence: क्रमानुसार करें योग का अभ्यास और पाएं स्वस्थ शरीर

यह तो सभी जानते है की योग का अभ्यास मानव जीवन के लिए कितना महत्वपूर्ण होता है। परन्तु आपको बता दे की योग को क्रमानुसार भी जरूरी है तभी आप इसका सही लाभ प्राप्त कर सकते है।

योग का क्रम मानव प्रणाली के संचालन के अनुरूप तय किया गया है। इस क्रम में योग को करने से शरीर के मांसपेशियों, अंगों, कंकाल को राहत और आराम मिलता है।

शरीर के समस्त अंगो को आराम देने के लिए हठ योग में विशेष ध्यान दिया गया है। हमारे शरीर में ऊर्जा के 2 पहलु होते है उसमे यदि आप पहले पहले को किये बिना ही दूसरे पर जाते है तो इससे आपका शरीर अनुचित हो जायेगा। उसका संतुलन बिगड़ जायेगा।

शरीर का संतुलन बनाये रखते हुए शरीर को आराम देने के लिए योग को क्रम में करना आवश्यक होता है। जानते है Yoga Sequence के बारे में विस्तार से।

Yoga Sequence – योग को क्रम में क्यों और कैसे करे?

Yoga Sequence in Hindi

योगासन को क्रम में क्यों करना होता है?

  • योगासन को करने का क्रम किसी की इच्छा के अनुसार तय नहीं किया गया है।
  • यह मानव शरीर की संरचना के अनुसार ही बनाया गया है।
  • इसलिए इसे एक सिरे से शुरू करके दूसरे सिरे तक सक्रिय करना होता है। यदि इसे क्रम में न किया जाए तो यह ख़राब हो सकता है।
  • परंपरागत योगासन करने से आपके सामने कैसी भी परिस्थिति आये आप उससे विचलित नहीं हो पाते। उसका बड़ी सरलता से सामना कर पाते है।

योगासन को करने का क्रम

हम जानते है की आज के समय में सभी व्यस्तता के कारण परेशान है, इसलिए हम आपको योग के ऐसा क्रम बता रहे है जिसे आप 20 मिनट में ही कर सकते है।

  1. ताड़ासन को एक मिनट के लिए करिये। इसमें आपको 8 से 10 बार सांसो को लेना है।
  2. पर्वतासन को 30 सेकण्ड्स तक करे जिसमे आपको 4 से 5 बार साँस लेनी है।
  3. वृक्षासन को 30 सेकण्ड्स तक के समय में करे इस समय में आपको 4 से 5 बार साँस लेनी होती है।
  4. कप्यासना को भी 30 सेकण्ड्स तक करे और इस आसन के साथ ही 4 से 5 साँस लेनी होती है।
  5. परिवृत्त पार्श्वकोणासन में 1 मिनट में 8 से 10 सांसे लेनी होती है।
  6. उत्थान पृष्ठासन को भी 1 मिनट के लिए करे और 8 से 10 सांसे ले।
  7. ऊर्ध्व मुख श्वानासन को 30 सेकण्ड्स में करने पर 4 से 5 बार सांसे लेनी होती है।
  8. अधोमुख श्वान आसन को करने के लिए 30 सेकण्ड्स का समय लगता है जिसमे 4 से 5 बार सांसे ली जा सकती हैं।
  9. उत्तानासन को 30 सेकंड के लिए करे और इसमें 4 से 5 बार सांसे ले।
  10. रैबिट पोज़ को 30 सेकंड के लिए करे और 4 से 5 बार साँस को ले।

Related Post

थायराइड के मरीजों के लिए फायदेमंद है रोज योगाभ्यास... हमारे शरीर के स्वस्थ रहने के लिए शरीर के सभी अंगो, ग्रंथियों आदि का सही तरह से काम करना जरुरी है| हमारे शरीर में पाये जाने वाली थायराइड ग्रंथि का भी स...
Yoga for Eating Disorder: इन आसनो के माध्यम से दूर... हम जानते है की एक अच्छे स्वस्थ शरीर के लिए भोजन बहुत ही आवश्यक होता है। परन्तु ज्यादा खाना जिस प्रकार सेहत के लिए अच्छा नहीं होता है ठीक उसी प्रकार कम...
योग के द्वारा गठिया के दर्द में राहत पाएं... गठिया एक ऐसी बीमारी है जिसमें मनुष्य शारीरिक दर्द से बहुत परेशान रहता है और न ही इसका कोई स्थाई समाधान या इलाज है| इसे आमवात, संधिवात आदि नामों से भी ...
योग करें, कैंसर से मुक्ति पाएं और स्वस्थ जीवन व्यत... चर्बी, मांस, आंत, गुर्दे, मस्तिष्क, श्वास नलिका, कोशिकाएं, स्नायु तंत्र और खून आदि शरीर के सभी आंतरिक भाग योग और प्राणायाम के द्वारा स्वस्थ और पुष्ट र...
Yoga for Sciatica: साइटिका की समस्या को दूर करेने ... योग करने से कई तरह की बीमारियों से राहत मिल सकती है, अगर आपको साइटिका की समस्या है तो योग में इसका भी इलाज है।यह आज कल एक आम सी समस्या हो गयी है पर यो...
गर्भावस्था के बाद स्वस्थ एवं टोन शरीर पाने के लिए ... बच्चे को जन्म देना हर माँ के लिए बहुत ही खुशी का पल होता है| इसलिए जब लेडी प्रेग्नेंट होती है तो उसे अपने बढे हुए वजन को लेकर कोई परेशानी नहीं होती है...

You may also like...