साइटिका की प्रॉब्लम दूर करने में सहायक है अंजनेयासन, जाने विधि

अधिकतर लोग इस बात से भलीभांति परिचित है की योगा हमारे स्वास्थ्य के लिए कितना महवपूर्ण है। बहुत कम ही लोग होंगे जो इस बात से अनजान होंगे| हमारी बिजी लाइफ में योग के लिए निकाला गया थोड़ा समय हमें भरपूर लाभ देता है|

योगा हमारे पूर्वजो की देन है। योगा हमारे मानसिक और शारीरिक पहलुओं पर काम करता है। यह अनगिनत रोगो को दूर करने में सहायक है। साथ ही यह शरीर को भी स्वस्थ रखता है। योगा में उम्र को लेकर कोई प्रतिबन्ध नहीं है, बच्चो से लेकर बूढ़े तक हर कोई इसे कर सकता है|

योग में हर रोग के लिए कई आसन है। योग कई प्रकार से किये जा सकते है जिनके अपने अपने लाभ होते है। आज हम आपको Anjaneyasana के बारे में बता रहे है| अंजनेयासन में शरीर अर्द्धचंद्राकार दिखता है जो पूरे शरीर को एक साथ लाभ देता है।

इस आसन का लाभ पाने के लिए आपको संतुलन और संयम के साथ ये इसे करना चाहिए। इस आसन को अंग्रेजी में क्रिसेंट पोज़  भी कहते है। आइये विस्तार से जानते है इसके बारे में|

Anjaneyasana: जाने इसे करने की विधि, लाभ और सावधानी

Anjaneyasana

अंजनेयासन कैसे करे?

  • अंजनेयासन करने के लिए सबसे पहले आप घुटने मोड़कर बैठ जाये।
  • उसके बाद बाया पैर पीछे की और ले जाये|
  • अपने हाथो को ऊपर उठाकर जोड़ ले|
  • अब धीरे धीरे जितना हो सके पीछे की और धीरे धीरे झुके।
  • उसके पश्चात 2 से 3 मिनट तक इसी मुद्रा में बने रहे।
  • फिर पहली वाली स्तिथि में वापिस आ जाये|

इसे शुरू करने से पहले रखे इन बातों का रखे ध्यान

  • इसे हमेशा खाली पेट करना चाहिए।
  • अंजनेयासन या फिर किसी भी आसन के लिए सुबह का समय अच्छा माना जाता है|
  • यदि आप इसे शाम के वक्त करते है और यदि आपने कुछ खाया है तो 4 घंटे का अंतराल जरूर होना चाहिए|

अंजनेयासन के लाभ

  1. इसे करने से मसल्स मजबूत होते है।
  2. यह आसन साँस लेने में सहायक होता है।
  3. इससे शरीर का संतुलन सुधरता है|
  4. इससे साइटिका की प्रॉब्लम दूर हो जाती है।
  5. यह शरीर में हो रहे दर्द को ठीक कर देता है|
  6. दिमाग को शांत करने में भी यह सहायक है|
  7. शरीर की गर्मी कम करने के लिए यह आसन बहुत लाभदायक है।
  8. इससे थाइज, हिप्स और चेस्ट को ओपन करने वाला आसन है|
  9. यह आपके फोकस करने की क्षमता को बढ़ाता है जिससे आपकी एकाग्रता बढ़ती है
  10. अगर आप इस आसन को प्रतिदिन करते है तो इससे आपकी बॉडी टोन होती है और शरीर एनर्जेटिक होता है|
  11. यह आपके ग्लट्स मसल्स और क्वाड्रिसेप्स को मजबूत करता है|
  12. यह आसन सायकल चालक और धावकों के लिए बहुत उपयोगी होता है विशेष कर जो लोग बैठने वाला जॉब करते है|

इस आसन से पहले करने वाले आसन 

  • अधोमुख शवासन
  • उत्कटासन
  • सुप्त-वज्रासन
  • वीरासन
  • प्रसारित पादोत्तनासन

इस आसन के बाद करने वाले आसन

  • वीरभद्रासन I (वारियर पोज़ I)
  • वीरभद्रासन III (वारियर पोज़ III)

सावधानी

  1. अगर आपको हाई ब्लड प्रेशर है तो इसे ना करे|
  2. घुटने के दर्द वाले भी इस आसन को न करे।
  3. यदि आपको शोल्डर की प्रॉब्लम है तो अपने बांहो को सर के ऊपर तक न उठाये। इसके लिए आप अपनी थाई पर हांथो को रख सकते है।

शुरुवाती के लिए टिप

आप अगर पहली बार इस आसन को कर रहे है तो आपको बैलेंस बनाने में थोड़ी दिक्कत होगी| इसलिए बैलेंस बनाने के लिए आप दिवार की तरफ भी देख सकते है| ध्यान रहे जब आप अपना पैर आगे बढ़ाते है तो आपकी पैर की उंगलिया दिवार से टच होनी चाहिए। इसकी शुरुआत धीरे धीरे करे। अपनी बॉडी को एक लिमिट तक ही स्टेच करे।

ऊपर आपने जाना  Anjaneyasana कैसे करना है और इसे करने से आपको कितने सारे लाभ हो सकते है। तो देर किस बात की है जल्द ही इस आसान   को अपनी दिनचर्या में शामिल कर लीजिये|

You may also like...