How to do Goddess Yoga: ताकत, शांति, ज्ञान और प्रेम के लिए

गॉडेस योगा का मतलब है की देवी की प्रार्थना करना, देवी की कल्पना करना, देवी की पहचान करना और अपने अंदर देवी का एहसास करना| देवी की कल्पना या ध्यान करने से आप रोग मुक्त होते हो, आपका मन प्रसन्न चित्त होता है और आपके अंदर की कुण्डलिनी ऊर्जा जाग्रत होती है|

जब महिलाएं देवी बनती हैं तो पुरुष अपना अहंकार छोड़ देते हैं और एक लौकिक चेतना बन जाते हैं। योगा में चार प्रकार की देवी है – दुर्गा – बाघ पर सवार देवी, काली – तलवार के साथ देवी, सरस्वती – एक किताब के साथ देवी, लक्ष्मी – भाग्य की देवी|

वे चारो ताकत, शांति, ज्ञान और प्रेम का प्रतीक हैं। अगर हम अपने जीवन में खुश रहना चाहते है, तो हमें इन सभी चार गुणों की आवश्यकता है।

Goddess Yoga in Hindi: आपको कठिन भावनाओं से निकलने में सहायता करे

How to Do Goddess Yoga

खुद को दुर्गा से परिचित कराएं

यह शक्ति की देवी मानी जाती है जो कि बाघ पर सवार है। इनके अंदर बाघ की शक्ति समाहित है। अगर वह अपने लक्ष्य तक पहुंचने का फैसला  करती  है तो उस तक पहुंच कर रहती है|

वह एक विजेता है उनके चारों ओर कई हथियार हैं, अर्थात् वह रचनात्मक ऊर्जा का उपयोग करती है ताकि वह अपने लक्ष्यों तक पहुंच सकें।

अपनी दोनों मुट्ठी को सर के पास लाएं और शक्ति शब्द को सोचे।  और इसे जब तक सोचे जब तक आपको माँ दुर्गा अपने पास न दिखाई दे। आपके जीवन का क्या लक्ष्य है? और किस तरह से आप उस तक पहुंच सकते है? मेरा लक्ष्य है… विजयी होने का मेरा तरीका है… इस तरह सोचे

अपने आप को काली देवी से परिचित कराएं

इनके पास तलवार है। वह अपने अहंकार का त्याग करने में सक्षम है जिससे मन में शांति पा सकती है। धरती को महसूस करे और सोचे की मैं अपनी झूठी इच्छाओं को छोड़ देता हूं/ देती हु, मैं चीजों को जैसे है वैसे ही एक्सेप्ट करूँगा/करुँगी|

लक्ष्मी को समझें

यह भाग्य और खुशी की देवी है। इनके दोनों हांथो में फूल होता है । यह ज्ञानी है| इनकी गोद में, सोने के सिक्को से भरा घड़ा होता है। जो उनकी आंतरिक और बाहरी संपत्ति है और उसे वह अनुयायियों पर खर्च करती है।

आपकी सम्पति क्या है? अपने आप को धन की देवी के रूप में महसूस करे। अपने पेट पर हांथो को फेरे और यह मंत्र सोचे -“मेरे जीवन में धन है … मैं इसके लिए आभारी हूँ ..”

धरती की माँ बने

अपने बच्चों के रूप में सभी प्राणियों पर ध्यान दे| खुद को उनके साथ सोचे। उन्हें भाग्य और खुशी का आशीर्वाद दे। अब आप देने वाले भाव के साथ लक्ष्मी है|

अपने हाथों को ऊपर ले जाएं और सोचें, “मैं प्रकाश को भेजता हूं … सभी लोग खुश रहें। दुनिया खुश रहें।”

कसत्तावरूगा

  • हांथो को फेस के ऊपर ले जाये|
  • खुद के शरीर को धीरे से मोड़े|
  • जो कुछ भी आप देखते हैं उसे गले लगाए|
  • जीवन में भाग्य का शुभकामनाएं दे।

 

You may also like...