कपोतासन के नियमित अभ्यास से पायें स्वस्थ एवं सुडौल शरीर

Go to the profile of  Yogkala Hindi
Yogkala Hindi
1 min read
कपोतासन के नियमित अभ्यास से पायें स्वस्थ एवं सुडौल शरीर

जॉब करने वाले लोगो का ज्यादातर वक्त कंप्यूटर के सामने बैठे बैठे गुजरता है| अधिकतर कंपनी में कम से कम 9 घंटे का समय तो रहता ही है| इस वजह से इन लोगो का कम से कम 9 घंटे तक थोडा भी फिजिकल वर्कआउट नहीं होता है|

इस तरह बैठे रहने से शरीर पर फेट जमने लगता है| खासकर कमर और जांघो के हिस्से पर| इन हिस्सों पर चर्बी जमने पर शरीर बेढौल दिखने लगता है| इस कारणवश लोग न अपने हिसाब से कपडे पहन पाते है और तो और शरीर पर जमी चर्बी कई रोगों को आमंत्रण भी देती है|

कपोतासन का अभ्यास शरीर से चर्बी घटाने का काम करता है, और मुख्यतः यह जांघो, पैरो और कमर पर टारगेट करती है| इसके अलावा इसका अभ्यास करने से छाती और फेफड़े भी मजबूत भी होते है| तो चलिए विस्तार से जानते है इसके बारे में Kapotasana Yoga in Hindi.

Kapotasana Yoga in Hindi - कपोतासन क्‍या है और इसके प्रकार

Kapotasana Yoga in Hindi

कपोतासन को करते वक्त शरीर की स्थिति कबूतर की तरह हो जाती है इसलिए इसे कपोत्ताससन कहा जाता है| अंग्रेजी में इसे Pigeon Pose के नाम से भी जाना जाता है। शरीर को स्‍वस्‍थ्‍य रखने तथा तनाव दूर करने के लिए यह योग मुद्रा बहुत महत्वपूर्ण है।

Kapotasana Benefits: कपोतासन करने के फायदे

  1. इस आसन का अभ्यास रोज करने से पीठ दर्द से राहत मिलती है।
  2. कपोतासन का अभ्यास करके अन्य आसन की मुद्राओं को भी सुधारा जा सकता है।
  3. यह आसन निम्न रक्तचाप और उच्च रक्तचाप दोनों में फायदेमंद है|
  4. यह आसन का अभ्यास सीने को फ़ैलाने और चौड़ा करने में मदद करते है|
  5. शरीर में जकडन और पीठ दर्द दोनों से राहत पाने के लिए इस आसन को करना फायदेमंद है|
  6. पेट की चर्बी कम करने और शरीर को सुढौल बनाने में यह सहायक है|
  7. यह आसन पाचन क्रिया को सुधारने में मदद करता है|
  8. अस्थमा और श्वास संबंधी अन्य बीमारियों से बचाव के लिए ये आसन किया जाना चाहिए।
  9. इसे करने से शरीर में रक्त का संचार अच्छे से होता है। क्योकि इसमें जांघों, एडियों, जोडों, सीने, पेट व् सभी अंगो पर दबाव पढता है|

Kapotasana Steps: कपोतासन की विधि

  • सबसे पहले वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं।
  • इसके पश्चात आपके दोनों हाथों को कमर के नीचे की तरफ ज़मीन पर टिकाएं तथा हथेलियां ज़मीन पर रहें।
  • अपनी हथेलियों का सहारा लेते हुए धीरे-धीरे पीछे की और मुड़ जाये|
  • अब धीरे धीरे अपने कमर को मोड़े, जैसा की चित्र में दिखाया गया है और अपने सिर के ऊपरी हिस्से को पीछे की तरफ मोड़कर ज़मीन से टिकाने का प्रयत्न करे|
  • अपने हाथों को ध्यानपूर्वक धीरे से सिर के पीछे ले जाएं और अपनी हथेलियों को ज़मीन रखे|
  • अपनी जांघों को ऊपर की तरफ उठाएं तथा हाथों को सीधा करने का प्रयत्न करें।
  • इस मुद्रा में कुछ देर बने रहे, गहरी साँसे लें।
  • अब अपनी शुरुआती अवस्था में लौट आएं।

Pigeon Pose Precautions: कपोतासन में सावधानिया

  • गर्भावस्था और पीरियड्स के दौरान कपोतासन का अभ्यास करना मना है|
  • यदि आपको घुटनो या टखनों में किसी तरह की समस्या है तो इस आसन का अभ्यास आप ना करे|
  • अगर आपको कलाइयों में चोट या कोई और समस्या है तो इस आसन का अभ्यास आपको नहीं करना चाहिए|
ऊपर आपने जाना Kapotasana Yoga in Hindi. कपोतासन का अभ्यास करके आप अपने शरीर को टोन रख सकते है, लेकिन यह आसन करने में थोड़ा मुश्किल है इसलिए इसे योग गुरु के निर्देशो में ही करे|