दिमाग को तेज और गतिशील बनाने के लिए फायदेमंद है योगासन

Go to the profile of  Yogkala Hindi
Yogkala Hindi
1 min read
दिमाग को तेज और गतिशील बनाने के लिए फायदेमंद है योगासन

स्वस्थ शरीर और बेहतर सेहत के लिए योग फायदेमंद है ये तो सभी जानते है| पुरानी बीमारी से निजात पाना हो या दिनभर चुस्त दुरुस्त रहना हो, इसके लिए योग से अच्छा कोई उपाय नहीं हो सकता है| लेकिन क्या आप जानते है योग के द्वारा दिमाग को तेज और मस्तिष्क को विकसित किया जा सकता है|

एक शोध के अनुसार, नियमित योग के अभ्यास से दिमाग स्वस्थ, तरोताजा और तेज रहता है| इस अध्ययन के तहत 52 युवतियों पर किए गए शोध से पता चला है कि दिमाग को स्वस्थ और सुचारू रूप से काम करने लिए आवश्यक ऑक्सीजन की उपलब्धता उच्च स्तर पर होती है, जो प्रतिदिन योग करते है|

मस्तिष्क के दो भाग होते है| दाहिना भाग शरीर के बायें हिस्से को तथा बाया भाग शरीर के दाहिने हिस्से को संचालित करता है| यह कहना है डॉ. सिल्वा का, उनके अनुसार दिमाग के दोनों भागो को विकसित किये बिना सम्पूर्ण मस्तिष्क को विकसित नहीं किया जा सकता है|

उन्होंने बताया की मनुष्य योग और व्यायाम के जरिये अपने मस्तिष्क के दोनों भागो को सक्रिय कर सकता है| योग से विचार करने की क्षमता, समझने की शक्ति, स्मरण शक्ति और वृद्धावस्था में होने वाले रोग जैसे लकवा, पार्किंसन, अल्जाइमर, अनिद्रा आदि अनेक भविष्य में आने वाली समस्याओं से निजात मिलती है।

Mind Yoga in Hindi: जानिए योग करने के तरीके

Mind Yoga in Hindi

योग के द्वारा आने वाली शांति के एहसास से लगातार आने वाली चिंताए दूर हो जाती है और आत्मविश्वास बढ़ने के साथ-साथ तनाव का निर्माण करने वाले हार्मोन्स कम बनते है| आइये जानते है मस्तिष्क के विकास में सहायक माइंड योगा के बारे में –

पर्वतासन

इस आसन को करने से कंधे तथा जोड़ों का दर्द ठीक होता है, साथ ही रीड की हड्डी में तनाव कम होता है जिससे परिणाम स्वरुप तंत्रिकाओं में स्फूर्ति बनी रहती है, मन प्रसन्न रहता है, और ध्यान केंद्रित होता है|

पर्वतासन विधि

  1. समतल और साफ़ जगह पर चटाई बिछाकर पद्मासन में बैठ जाइए|
  2. अब अपने दायें पैर के पंजो को बायें पैर की जांघ पर तथा बाये पैर के पंजो को दायें पैर की जांघ पर रखें|
  3. इसके बाद धीरे-धीरे साँस भरे और साँस को रोककर रखें|
  4. अब दोनों हाथो की उंगलियो को इंटरलॉक करें और उन्हें सिर के ऊपर ले जाएं|
  5. ध्यान रखे यह प्रक्रिया करते समय कमर और रीड को सीधा रखें|
  6. कुछ समय बाद सामान्य अवस्था में आ जाये, इसके लिए धीरे धीरे साँस को छोडे और हाथो को घुटनो तक लाएं|

कटिचक्रासन

इस आसान के अभ्यास से शरीर के सभी अंगो की जकड़न दूर होती है जो शरीर को ऊर्जावान बनाती है| दिन में किसी भी समय इसका अभ्यास किया जा सकता है| यह शारीरिक और मानसिक थकान भी दूर करता है| यह एक बेहतरीन Yoga for Mind  है|

कटिचक्रासन विधि

  1. सबसे पहले सावधान की मुद्रा में खड़े हो जाएं, फिर दोनों पेरो के बीच में 1 फ़ीट का अंतर बना लें|
  2. अब बाया हाथ सामने से घुमाते हुए दायें कंधे पर तथा दाया हाथ मोड़कर पीठ के पीछे कमर तक ले जाये| इस दौरान कमर वाले हाथ की हथेली सामने की और होना चाहिए|
  3. अब गर्दन को दायें कंधे की और घूमते हुए पीछे ले जाये| कुछ देर इस अवस्था में रहें|
  4. फिर गर्दन को सामने लेट हुए दोनों कंधो को सामानांतर रखते हुए| इस प्रक्रिया को दाई और से करने के बाद बाईं और से करे| इस प्रकार दोनों तरफ से बराबर इस आसान का अभ्यास करें|
आप यह भी पढ़ सकते है:- ध्यान योग से रखें मन, चित्त और शरीर का बेहतरीन ख़याल

सूर्य नमस्कार

सूर्य नमस्कार का शाब्दिक अर्थ है सूर्य को अर्पण या नमस्कार करना| अगर आपके पास समय की कमी है और आप चुस्त-दुरुस्त और तनाव मुक्त जीवन व्यतीत करना चाहते है तो इससे बेहतर कोई आसान नहीं हो सकता है|

यह योगासनो में सबसे श्रेष्ठ क्रिया है| यह अकेला आसन मनुष्य को अन्य आसनो के बराबर लाभ पहुँचाने में सक्षम है| सूर्य नमस्कार स्त्री, पुरुष, बच्चे, वयस्क तथा बुजुर्ग सभी के लिए लाभदायक है| यह 12 शक्तिशाली योग आसनों का सामान्य है|

इन आसनो के अलावा त्रिकोणासन, हनुमानासन, गरुड़ासन आदि भी मस्तिष्क के विकास में सहायक सभी होते है|

प्राणायाम का महत्व

योग या प्राणायाम करते समय दोनों स्वर अर्थात नाक के भाग चलने से मस्तिष्क के दोनों हिस्सों में प्राणवायु का संचार होता है और दोनों भाग सामान रूप से उन्नत होते है| प्राणायाम में अनुलोग-विलोम, सूर्यभेदी प्राणायाम एवं भ्रामरी प्राणायाम भी मस्तिष्क को विकसित और गतिशील बनाने मंर मदद करते है|

आज अपने जाना Mind Yoga in Hindi. जिसके द्वारा दिमागी थकान और तनाव को कैसे समाप्त किया जा सकता है और कैसे अपने मस्तिष्क को विकसित किया जा सकता है|