कब्ज और गैस की समस्या से परेशान रहते है तो करे उत्कटासन

योग करने से हमें कई फायदे मिलते है| योग को करके आप कई तरह की बीमारियों से निजात पा सकते है| वही गलत दिनचर्या से हमारे शरीर पर गलत प्रभाव पढ़ते है| ऐसा नहीं है योग के बिना जीवन नहीं है| लेकिन ऐसा जीवन जो परेशानी से भरा रहता है जैसे शरीर में दर्द, उदासी आदि|

वही यदि आप नियमित योग करते है तो आपका शरीर स्फूर्ति से भर जाता है| इसलिए शायद कहा जाता है की योग हमें जीने की कला सिखाता है| योग का अभ्यास करने से आप रोंग मुक्त शरीर तो पाते ही है साथ ही साथ इससे आपके जिंदगी के दिन भी बढ़ जाते है|

अलग अलग योग क्रियाओ को करने से हमारे शरीर को अलग अलग फायदे मिलते है| आज के लेख में हम आपको उत्कटासन के बारे में बता रहे है| यह आसन पेट के लिए बहुत ही अच्छा होता है| यदि आपका पेट अच्छा है याने की आपका सम्पूर्ण स्वास्थ्य अच्छा है| तो आइये जानते है Utkatasana Yoga in Hindi.

Utkatasana Yoga in Hindi: उत्‍कटासन की विधि और लाभ जानिए

Utkatasana Yoga in Hindi

उत्कटासन योग को अंग्रेजी में Chair Pose कहा जाता है| इस आसन को करते वक्त व्यक्ति के शरीर की आकृति कुर्सी के सामान हो जाती है इसलिए इसे चेयर पोस कहा जाता है| जिन लोगो कब्ज की समस्या बनी रहती है| उन्हें इस आसन का अभ्यास जरुर करना चाहिए|

Utkatasana Stpes: उत्कटासन की विधि जानिए

  • सबसे पहले किसी समतल जगह पर आसन बीछाकर उस पर आराम से खड़े हो जाये|
  • अपने दोनों पैरों के बीच थोडा सी दुरी रखे और सीधे खड़े रहे|
  • अपने हाथों को आगे की और करे, जैसा की चित्र में दिखाया गया है|
  • हथेली ज़मीन की तरफ और कुहनियां सीधी रहना चाहिए।
  • अपने घुटनो को मोड़े और शरीर की स्तिथि इस प्रकार बनाये जैसे कि आप एक काल्पनिक कुर्सी पर बैठे हैं।
  • इसी स्थिति में अपनी क्षमता के अनुसार बने रहें।
  • आपको इस स्तिथि में अच्छा महसूस हो इसके लिए कल्पना करें कि मानो आप बैठे बैठे आप अखबार पढ़ रहे हैं|
  • इस स्तिथि में अपने हाथो को जमीन के सामानांतर रखे|
  • अब वापिस से सावधान की मुद्रा में आ जाये|
  • थोड़ी देर बाद इसे वापिस करे| आप इसके 5 से 10 सेट कर सकते है|
आप यह भी पढ़ सकते है:- बिक्रम योगा: शरीर को लचीला बनाये और चुस्ती-स्फूर्ति लाये

Chair Pose Benefits: उत्कटासन के लाभ

  1. अन्य योग के आसनों की तरह Chair Pose Yoga को भी करने से शरीर में स्‍फूर्ति और ऊर्जा आती है।
  2. इसे करने से पैरों की एड़ियां तथा मासपेशियां मजबूत बनती हैं। साथ ही जांघो की चर्बी घटती है|
  3. पेट की चर्बी कम करने के लिए इसका अभ्यास फायदेमंद है| यह पेट की कई बीमारियां जैसे, अपच, कब्‍ज, एसिडिटी आदि भी दूर करता है|
  4. गठिया के मरीजो के लिए भी यह बहुत फायदेमंद आसन है|
  5. इससे शरीर में संतुलन और ताकत आती है|
  6. यह वजन को कम कर आपके शरीर को सुढोल बनाने में मदद करता है|
  7. यह मासिक धर्म से जुडी कई समस्याओ से निजात दिलाता है| इसलिए महिलाओ को इसे अवश्य करना चाहिए|
  8. यह हर उम्र के लोगो के लिए फायदेमंद आसन है|
  9. यह पीठ के निचले हिस्से को मजबूती भी प्रदान करता है|

Utkatasana Precautions : उत्कटासन में सावधानिया

  • उत्कटासन का अभ्यास कभी भी भरे पेट ना करे|
  • यदि आपको ह्रदय रोंग है तो चिकित्सक की परामर्श से ही इसे करे|
  • यदि आपको सरदर्द हो रहा है तो इस आसन का अभ्यास ना करे|
  • जिन लोगो को पैरो में चोट लगी हो या फिर पैरो का ऑपरेशन हुआ हो तो इस आसन को करने से बचना चाहिए|
  1. उत्कटासन के पहले किये जाने वाले आसन: अधो मुख स्वानासन, भुजंगासन, वीरासन योग मुद्रा
  2. उत्कटासन के बाद किये जाने वाला आसन: ताड़ासन

ऊपर आपने जाना Utkatasana Yoga in Hindi. इस आसन को करना सरल है, और यदि आपसे यह नहीं भी करते बन रहा है तो धीरे धीरे आपको इसे करने की आदत पढ़ जाएगी| यह आपके सम्पूर्ण शरीर को आकर्षक और सुन्दर बनाता है|

You may also like...