अवसाद और इससे होने वाले विकारो से दूर रहने के लिए योग है फायदेमंद

आजकल की बदलती जीवनशैली, प्रदूषित वातावरण और तनाव के चलते, अवसाद के कई मामले सामने आ रहे है| अवसाद के वजह से ना केवल मानसिक बल्कि शारीरिक समस्याए भी आती है| अवसाद के पीछे का मुख्य कारण उदासी है| वैसे तो उदास रहना बहुत आम बात है| हर व्यक्ति अपने जीवन में किसी ना किसी कारणवश उदास रहता है|

यदि ये उदासी लगातार बनी रहे तो व्यक्ति डिप्रेशन में चले जाता है| जब भी ऐसा होता है, तब व्यक्ति  सुख का आनंद नहीं उठा पाता| उसका रवैया धीरे धीरे नकारात्मक होता जाता है| वो लोगो से दूर होने लगता है| कई बार तो अवसाद से घिरा व्यक्ति जीवन को भी नकार देता है|

कई लोग अवसाद का इलाज मनोचिकित्सक द्वारा दी गयी एंटी-डिप्रेसेंट दवाओं से करते हैं। लेकिन रासायनिक दवाइयों का सेवन भावनाओं को जड़ कर देता है| यदि अवसाद से निकलने का कोई अच्छा तरीका है तो वो है योग| योग की मदद से व्यक्ति का मानसिक संतुलन सुधरता है, तनाव दूर होता है, उसके जीवन में सकारात्मकता आती है आदि| आइये जाने Yoga for Depressive Disorder in Hindi, योग के जरिये अवसाद को कैसे दूर किया जा सकता है|

Yoga for Depressive Disorder: योग से दूर करें अवसाद

Yoga for Depressive Disorder in Hindi

योग करने के साथ साथ यदि हमें डिप्रेशन का कारण भी पता चल जाये तो इससे और भी जल्दी निजाद पाया जा सकता है| अवसाद किसी भी कारणवश हो सकता है जैसे की खराब स्वास्थ्य, बिगड़े संबंध, तनावयुक्त  वातावरण, या किसी घटना क्रम के चलते भी ये हो सकता है| इसमें व्यक्ति को खुद नहीं पता चलता की वो अवसाद में है, लेकिन धीरे धीरे उसके व्यवहार में परिवर्तन जैसे की चिड़चिड़ापन, क्रोध आदि आने लगता है| इसमें ज्यादातर व्यक्ति नशे की और उन्मुख होने लगते है|

इसलिए जरुरी है की ऐसे व्यक्ति को मैत्रीपूर्ण और खुशनुमा वातावरण मिले| साथ ही योग और ध्यान करवाया जाये| योग एक प्राकृतिक Treatment for Depression है| ऐसे कई आसन है जिससे व्यक्ति को इससे बहार निकलने में मदद मिलती है|

ब्रह्म मुद्रा आसन

ब्रह्म मुद्रा आसन के नियमित अभ्यास से अवसाद और तनाव दूर होता है| यह एक बेहतरीन Yoga for Depression and Anxiety है| इसके अतिरिक्त इसे करने से गर्दन की मांसपेशियां भी लचीली होती हैं| जो लोग इसे करते है, उनका मूड अच्छा रहता है, और उनके अंदर का आलस्य खत्म हो जाता है|

इस आसन को करने के लिए वज्रासन की मुद्रा में अच्छी तरह से बैठ जाएं। अब अपनी गर्दन को सीधी रखते हुए धीरे-धीरे दाईं तरफ ले जाये। इसके पश्चात कुछ देर के लिए रुकें और फिर गर्दन को सीधे बाईं ओर ले जाएं। कुछ सेकंड बाद वापिस दाईं ओर सिर को घुमाएं। अब अपने सिर को तीन से चार बार क्लॉकवाइज और एंटी क्लॉकवाइज घुमाएं। एक बात का ध्यान रखे जिन लोगो को थाइरॉयड, सर्वाइकल स्पोंडिलाइटिस या फिर गर्दन संबंधी कोई परेशानी हो तो वो इस योग को ना करे|

इस बात की पुष्टि करने के लिए अवसाद लक्षणों वाली 34 गर्भवती महिलाओ पर अध्यन किया गया, जिसमे महिलाओं ने प्रसव-पूर्व योग वर्ग के कार्यक्रम में हिस्सा लिया, जिसके परिणाम सब पर बेहतर दिखाई दिए|

आप यह भी पढ़ सकते है:- बिजी लाइफस्टाइल? घर पर योग करने के लिए जानिए यह टिप्स 

भुजंगासन

भुजंगासन भी तनाव प्रबंधन के लिए सर्वश्रेष्ठ आसान है। अवसाद से घिरे व्यक्ति को इसे जरूर करना चाहिए| इससे पेट की अतिरिक्त चर्बी कम होती है, कब्ज दूर होता है। योगा एक्सपर्ट्स की माने तो इस आसान को करने से शरीर में रक्त का संचार सही होता है| फलस्वरूप व्यक्ति का स्वास्थ्य सही रहता है| इसे करते वक्त एक बात का ख्याल रहे की, जिस किसी ने पेट संबंधी सर्जरी करवाई हो उसे इसे नहीं करना चाहिए|

शलभासन भी फायदेमंद

शायद आपने शलभासन का नाम ज्यादा ना सुना हो| इस आसन में शरीर की आकृति शलभ याने की टिड्डे की तरह रहती है| इस आसान को करने से पीठ के निचले हिस्से का दर्द ठीक होता है और पाचन तंत्र भी मजबूत बनता है|

जब पाचन तंत्र सही रहता है, तो व्यकति का शरीर अपने कार्य सुचारू रूप से करता है| जिससे व्यक्ति का मूड अपने आप अच्छा रहता है| इस आसन को करने से अवसाद और चिंताए दूर होती है| हृदय रोगी और अल्सर से ग्रसित व्यक्तियों को इसे करने से बचना चाहिए|

गर्भवती महिलाओं के लिए भी फायदेमंद

योग करना हर किसी के लिए फायदेमंद है| कुछ शोधो में पाया गया है कि अवसाद झेल रही गर्भवती महिलाओं में मानसिक घबराहट जैसी कठिनाई को घटाने में योग सहायता करता है। सामान्य अवसाद झेल रही महिलाओ में योग का अभ्यास सुरक्षित है|

ब्राउन विश्वविद्यालय में मनोविज्ञान एवं मानवीय व्यवहार के प्रोफेसर कैंथिया बैटले के अनुसार जो स्त्री गर्भावस्था के दौरान अवसाद के लक्षणों का सामना करती हैं, ऐसी महिलाओ के लिए योग अनुकूल है|

ऊपर आपने जाना Yoga for Depressive Disorder in Hindi. अवसाद से घिरे व्यक्तिओ को ऊपर दिए गए योगासनो को जरूर करना चाहिए| इसके अतिरिक्त और कई आसन है जिससे तनाव और चिंताए दूर होती है जैसे की वक्रासन, शवासन, नाड़ी शोधन प्राणायाम, भ्रामरी, धनुरासन आदि से अवसाद से निजाद पायी जा सकती है|

You may also like...