Yoga For Dizziness: अगर आप चक्कर आने की समस्या से हैं परेशान तो करें ये योग

Go to the profile of  Yogkala Hindi
Yogkala Hindi
1 min read
Yoga For Dizziness: अगर आप चक्कर आने की समस्या से हैं परेशान तो करें ये योग

‘चक्कर आने’ की समस्या को अंग्रेजी में Dizziness भी कहा जाता है। इसका मतलब विभिन्न लोगों द्वारा अलग अलग तरह से समझाया जाता है। जैसे कुछ लोग सिर में होने वाले भारीपन को चक्कर आना बताते हैं तो कुछ लोगों के लिए ये समस्या तब होती है जब व्यक्ति के आस-पास की साड़ी चीजें घूमती हुई सी नजर आएं।

चक्कर आने की समस्या के लक्षण स्पष्ट नहीं हैं। शरीर में ऐसे कई सारे कारण हो सकते हैं जिसके कारण आपको चक्कर आने की समस्या से दो चार होना पड़ रहा हो। वैसे ज्यादातर ऐसा देखा गया है की मस्तिष्क में होने वाले असंतुलन से हीं ये समस्या खड़ी होती है।

चक्कर आने की समस्या में रोगी ऐसा अनुभव करता है जैसे उसके हर तरफ की रखी वस्तुएं गोल-गोल घूम रही हैं। वैसे तो चक्कर आना एक आम सी समस्या है, पर इसे मामूली समझ कर गंभीरता से न लेना भी सही नहीं होता है।

चक्कर आने कि समस्या का रोकथाम हम योग के माध्यम से भी कर सकते हैं। योग विज्ञान में कई ऐसे योगासन मौजूद हैं जिससे आपकी चक्कर आने की समस्या का आसानी से निदान किया जा सकता है। आइये आज के इस लेख में जानते हैं Yoga For Dizziness.

Yoga For Dizziness: इन योगासनों से करें चक्कर आने की समस्या को दूर

Yoga For Dizziness in Hindi

चक्कर आने की समस्या मनुष्य के मस्तिष्क से जुड़ी हुई समस्या होती है। हम योग के कुछ आसनों के माध्यम से भी इस समस्या में लाभ प्राप्त कर सकते हैं, जानते हैं इसमें लाभ पहुंचने वाले कुछ आसनों को।

कंधसंचालन

  • इसे करने से पहले अपने कमर को सीधा रखते हुए खड़े हो जाएँ।
  • आसान की शुरुआत करते हुए अपने दोनों हाथों को अपने कन्धों पर रखें।
  • इसी मुद्रा में अपनी कोहनियों को घुमाएं, घुमाने की क्रिया गोल गोल करें।
  • ध्यान रखें की कोहनियों को घुमाते समय आपकी भुजाएं कान से स्पर्श करती हुई नीचे की तरफ जाएँ।
  • इस घुमाने की क्रिया को दस बार दोहराएं।
  • अगर इस आसान को करते समय चक्कर आये तो थोड़ी देर आराम करने के बाद आसान करने की कोशिश करें।

शशकासन

  • इस आसन की शुरुआत में आप वज्रासन की अवस्था में बैठ जाएँ।
  • ध्यान रखें की इस अवस्था में आपकी रीढ़ की हड्डी बिलकुल सीधी रहे।
  • अब अपने घुटनों को एक दूसरे से दूर फैला लें।
  • अब अपनी बाहों को कंधे की चौड़ाई के जितनी दूर रखते हुए सिर के ऊपर उठायें।
  • अब गहरी सांस लेते हुए अपने दोनों हाथों को सीधा रखते हुए कमर से आगे की तरफ झुकने की कोशिश करें।
  • आपकी इस स्थिति में बाहें और ठोडी जमीन से टिक जानी चाहिए।
  • आखिर में पुनः प्रारंभिक अवस्था में आ जाएँ।

ब्रह्ममुद्रा

  • इस मुद्रा में आने के लिए पहले बज्रासन या फिर पद्मासन की स्थिति में जमीन पर बैठ जाएँ।
  • अब अपने दोनों हाथ अपने घुटनों पर रख कर अपने कन्धों को बिलकुल ढीला छोड़े।
  • इसके बाद अपनी गर्दन को हौले हौले ऊपर और फिर नीचे लाएं।
  • इस प्रक्रिया को 10 बार दोहराएं और फिर दोहराने के बाद गर्दन की दिशा दाएं-बाएं की तरफ कर दें।
  • दाएं-बाएं की तरफ गरदन घुमाते समय इस बात का ख्याल रखें की आपकी गर्दन कन्धों से लगने लगे।
  • इस प्रक्रिया के अंत में गर्दन को चारो दिशाओं में गोल गोल घुमाएं।
  • इस आसन को रोजाना करने से चक्कर आने की समस्या से नजात मिल जायेगी।

माज्ररासन

  • इस आसान को करने के लिए सबसे पहले अपने हाथ और पैर के सहारे पर किसी चौपाये जानवर की तरह हो जाएँ।
  • इस अवस्था में अपने घुटनों को आपसे में मिला कर रखें।
  • ध्यान रखें की आपके हाथों के मध्य में तक़रीबन डेढ़ फिट की  दुरी रहे।
  • अब अपने कमर को फर्श के सामानांतर रखते हुए अपने गर्दन को हौले हौले ऊपर की तरफ उठायें और अपनी कमर को ढीला छोड़े।
  • इसके बाद गर्दन को नीचे करते हुए पेट तथा कमर को उठायें।
  • इस क्रिया को दस बार दोहराएं।
  • आपको इस आसन से चक्कर आने की समस्या से नजात मिलेगा।
तो ये हैं कुछ विशेष आसन जिससे आप अपने चक्कर आने की समस्यायों से पा सकते हैं निजात। तो आज से हीं इन मुद्राओं का आप भी करें अभ्यास और उठायें इसके फ़ायदों को।