Yoga for Healthy Living: योग के द्वारा लंबी आयु तक रहे स्वस्थ और जंवा

Go to the profile of  Yogkala Hindi
Yogkala Hindi
1 min read
Yoga for Healthy Living: योग के द्वारा लंबी आयु तक रहे स्वस्थ और जंवा

लोग चाहते है की वह हर उम्र में फिट रहे और उन्हें किसी भी प्रकार की बीमारी न हो। परन्तु जैसे जैसे उम्र बढ़ती जाती है शरीर कमजोर होता जाता है और कई बीमारियों के चपेट में आ जाता है।

देखा जाए तो ऐसे बहुत ही कम लोग होंगे जो की अपने बुढ़ापे में भी एक स्वस्थ्य जीवन बिताते है और लम्बे समय तक जीवित रहते है। जिनके जीवन में बीमारियाँ उनसे कोसो दूर रहती है।

यदि आप भी इसी प्रकार की इच्छा रखते है की आप अपने 60 साल की उम्र में भी फिट रहे तो इसके लिए नियमित योग करना बहुत ही आवश्यक होता है।

योग एक ऐसा माध्यम है जिसे करते रहने से आपको जल्द बुढ़ापा नहीं आता है। योग बीमारियों को दूर करके शरीर को फिट रखता है। जानते है Yoga for Healthy Living के बारे में।

Yoga for Healthy Living: पाएं रोग रहित लम्बी आयु का जीवन

Yoga for Healthy Living

मलासन

  • मलासन को करने से एड़ियों और गर्दन को मजबूती मिलती है और कूल्हों में गतिशीलता बढ़ जाती है।
  • यह आसन मेटाबोलिज्म में सुधार करके थकान को कम करता है।
  • यह आसन पेल्विस में रक्त संचार को संतुलित करता है।
  • यह आसन आपको फिट रखने से सहायक होता है।
  • यहाँ जानिए मलासन को करने की विधि क्या है?

अनुलोम-विलोम

  • यह एक ऐसा प्राणायाम होता है जिसे प्रतिदिन करने से व्यक्ति लंबी उम्र तक एक अच्छे स्वास्थ्य के साथ जीवित रह सकता है।
  • अनुलोम-विलोम प्राणायाम में गहरी सांस भरने पर शुद्ध वायु खून के दूषित पदार्थों को बाहर निकाल देती है। साथ ही शुद्ध रक्त शरीर के सभी अंगों में जाकर उन्हें पोषण प्रदान करता है।
  • इस आसन को पांच मिनट से पंद्रह मिनट तक प्रतिदिन कर सकते हैं।

वज्रासन

  • वज्रासन को नियमित करने से यह बढ़ती उम्र में भी फिटनेस को बरक़रार रखता है।
  • पाचन के लिए यह बहुत ही अच्छा आसन माना जाता है।
  • वज्रासन कूल्हों को टोन करता है और कब्ज से छुटकारा दिलाता है।
  • यह शरीर में रक्त परिसंचरण को बढ़ाता है।

कपालभाति

  • इस आसन के द्वारा रक्त परिसंचरण ठीक रहता है और चेहरे पर चमक आती है जिसके कारण आप जवान दिखने लगते है।
  • इसके नियमित अभ्यास से चेहरे पर होने वाली झुर्रियां भी दूर हो जाती है।
  • कपालभाति, मस्तिष्क और तंत्रिका तंत्र को ऊर्जान्वित करता है।
  • यह वजन को कम करने में मदद करता है जिससे आप मोटापे के कारण होने वाली बीमारियों से भी बचे रहते है।

चक्रासन

  • चक्रासन दिल के लिए बहुत ही अच्छा आसन होता है।
  • यह अग्न्याशय को मजबूत करता है साथ ही पैर, हाथ, कलाई, नितंबों और रीढ़ की हड्डी को भी मजबूत बनाता है।
  • इसके नियमित अभ्यास से आप लम्बे समय तक फिट रहते है।
ऊपर दिये गए आसनों के अतिरिक्त शंख प्रक्षालन, उष्ट्रासन, त्रिकोणासन, ताड़ासन, पश्चिमोत्तनासन, धनुरासन और नौकासन का भी अभ्यास किया जा सकता है, ताकि आप लम्बे समय तक स्वस्थ रह सके।