Yoga for Liver and Kidney: योग द्वारा बचाये लिवर और किडनी को बीमारियों से

हमारा शरीर तभी स्वस्थ रहता है जब शरीर के समस्त अंग सुचारु रूप से कार्य करते है। इसलिए शरीर के सभी अंगों का सही रहना आवश्यक होता है।

किडनी और लिवर शरीर के ऐसे भाग से जिनका स्वस्थ रहना बहुत आवश्यक है। नहीं तो शरीर कई बीमारियों से ग्रसित हो जाता है जैसे – हेपेटाइटिस ए, बी या सी और लीवर सिरोसिस, फैटी लीवर आदि।

किडनी और लिवर को स्वस्थ रखने के लिए हम कई आहार और दवाओं का सेवन भी करते है जो एक समय तक इनको सही भी रखता है।

किडनी और लिवर को स्वस्थ रखने के लिए योग भी बहुत अच्छा होता है। इसके नियमित अभ्यास से किडनी और लिवर के कारण होने वाली खतरनाक बिमारियों से भी राहत मिल जाती है। जानते है Yoga for Liver and Kidney.

Yoga for Liver and Kidney: इन आसनो से रखे किडनी और लिवर को स्वस्थ

Yoga for Liver and Kidney in Hindi

अर्ध मत्स्येन्द्रासन

  • अर्ध मत्स्येन्द्रासन इस आसन को करने से अनेक लाभ होते है।
  • यह किडनी को स्वस्थ रखता है साथ ही लिवर के लिए भी बहुत उपयोगी होता है।
  • इस आसन को करने से छाती में फैलाव आता है जिससे फेफड़ो को ऑक्सीजन सही मात्रा में मिल जाती है।
  • कब्ज को दूर करने के लिए भी यह बहुत ही लाभकारी होता है।

पादांगुष्ठासन

  • पादांगुष्ठासन का अभ्यास करने से लीवर और किडनी सक्रिय होती है और स्वस्थ रहती है।
  • पाचन तंत्र और प्रजनन तंत्र को उत्तेजित करने के लिए पादांगुष्ठासन आसन का अभ्यास करना अच्छा होता है।
  • यह आसन सिरदर्द की समस्या को दूर करता है। साथ ही दिमाग को शांत रखने का कार्य करता है। जिससे तनाव की समस्या भी दूर हो जाती है।

पश्चिमोत्तानासन

  • इस आसन को करने से कई बीमारियाँ दूर होती है।
  • किडनी के कारण होने वाली समस्याओं को दूर करने के लिए पश्चिमोत्तानासन को किया जा सकता है।
  • पश्चिमोत्तानासन लिवर और किडनी की कार्य क्षमता में सुधार करता है।
  • पाचन अंगों को सही रखने का कार्य करता है। साथ ही रीढ़ की हड्डी को लचीला बनाता है।

कपालभाति प्राणायाम

  • कपालभाति प्राणायाम के नियमित अभ्यास से पीलिया, हेपेटाइटिस जैसी बीमारियों से निजात मिलता है और लिवर को भी स्वस्थ बनाये रखता है।
  • पेट की मासपेशियों को सक्रिय करने में सहायक होता है।
  • साथ ही यह किडनी के कारण होने वाली बीमारियों को भी दूर करता है।
  • यह मन को शांत करके उसे तनाव और चिंता से मुक्ति दिलाता है।

गोमुखासन

  • गोमुखासन किडनी और लिवर दोनों के लिए फायदेमन्द होता है।
  • गोमुखासन को Cow Face Pose भी कहा जाता है।
  • कमर दर्द की परेशानियों से भी छुटकारा दिलाता है।
  • अस्थमा रोगियों के लिए यह आसन बहुत ही लाभकारी होता है क्योंकि यह छाती को पुष्ट बनाने का कार्य करता है। साथ ही फेफड़ों की भी सफाई करता है।
  • पीठ एवं बांहों की मांसपेशियों को मज़बूती देने के लिए इस आसन का अभ्यास अच्छा होता है।

लिवर और किडनी को सुरक्षित रखने के लिए ऊपर दिए गए सभी आसनो का अभ्यास किया जा सकता है। परन्तु इसका नियमित अभ्यास करने पर ही आप इसके लाभ प्राप्त कर पाएंगे।

You may also like...