Yoga for Lower Back Pain: पुराने से पुराने दर्द से राहत दिलाए यह आसन

योगासन शारीरिक दर्द को दूर करने एक ऐसा प्राकृतिक उपचार है, जो दर्द से तुरंत और हमेशा के लिए निजाद दिलाने में सहायक होता है। आज हम आपको कमर के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से राहत दिलाने वाले कुछ योगासन के बारे में जानकारी देने वाले है।

बदलती जीवन शैली, रहन-सहन और खान-पान का जहां हमारे शरीर पर सकारात्मक प्रभाव होता है तो वहीं कुछ न कुछ नकारात्मक प्रभाव भी होता है। आज समय की कमी, बिजी लाइफ स्टाइल के चलते शारीरिक दर्द से हमारा रिश्ता बढ़ता जा रहा है। आज हर 10 में से 7 व्यक्ति किसी न किसी प्रकार के शरीर के दर्द से परेशान रहते है।

कमर के निचले हिस्से यानि लोअर बैक पेन रीढ़ की हड्डी के निचे वाली हड्डी में अत्यधिक तनाव के कारण होता है। अर्थात जब उन हड्डियों पर क्षमता से अधिक भार आ जाता है, तो वह दर्द करने लगती है। इन हड्डियों में दर्द के कई कारण हो सकते है जैसे अधिक भार वाला सामान उठा लेना, अधिक समय तक एक ही स्थिति में बैठे या खड़े रहना या हड्डियों का कमजोर हो जाना।

अगर आप भी इस तरह के दर्द से परेशान है तो योग के जरिये इसे दर्द से मुक्ति पा सकते है। आइये अब हम जानते है Yoga for Lower Back Pain.

Yoga for Lower Back Pain:इन आसनो द्वारा करें निचले कमर दर्द को ठीक

बालासन

  • बालासन को करने से बेक के निचले हिस्से में दबाब उत्पन्न होता है।
  • इसके नियमित अभ्यास से मेरुदंड लचीला बनता है। साथ ही वह मजबूत भी होता है। यदि कोई व्यक्ति इसका अभ्यास रोज करे तो बुढ़ापे में भी उसकी रीढ़ की हड्डी सीधी रहती है।
  • इसे करने से शरीर फिट और तंदरुस्त रहता है। बालासन तंत्रिका तंत्र को भी मजबूत बनाने का कार्य करता है।

शलभासन

  • शलभासन कमर की निचली हड्डियों में खिचाव लाता है। जिससे होने वाले दर्द से भी राहत मिलती है।
  • यह कमर दर्द से राहत दिलाता है। यदि किसी को पुराना कमर दर्द है तो उससे भी निजात मिल जाती है।
  • यह तंत्रिका तंत्र को भी मजबूत बनाता है। साथ ही शरीर में लचीलापन लाता है।

अधोमुखश्वान आसन

  • अधोमुख श्वान आसन को करने से कमर के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से राहत मिलती है।
  • इसके नियमित अभ्यास से रीढ़ की हड्डी भी लचीली होती है।
  • कंधे, हाथ और पैरों को भी इस आसन द्वारा ताकत मिलती है।
  • अधोमुखश्वान आसन करने से मांसपेशियों में खिचाव आता है।

भुजंगासन

  • निचले कमर में यदि दर्द है तो इस आसन को करना लाभकारी होता है। इसे नियमित रूप से करने पर लोअर बैक पेन की समस्या से पूर्ण रूप से मुक्ति मिल जाती है।
  • शरीर को सुडोल बनाने के लिए भी भुजंगासन बहुत ही लाभकारी होता है।
  • इसे करने से पेट में भी खिचाव होता है। जिससे पेट में जमी अतिरिक्त चर्बी भी कम हो जाती है।

हस्तपादासन

  • इस आसन को करने से कमर के निचले हिस्से में होने वाले दर्द से पूर्ण रूप से निजात मिलता है।
  • यह रीढ़ की हड्डी को भी मज़बूत बनाने में मदद करता है।
  • मांसपेशियों में खिचाव लाने के लिए भी यह आसन लाभकारी होता है।

You may also like...