लकवा याने की Paralysis एक गंभीर बीमारी है| इसे कई लोग पक्षाघात रोग के नाम से भी जानते है| इसमें शरीर का कोई विशेष हिस्सा या फिर कहे की आधा शरीर निष्क्रिय हो जाता है। जैसे की यदि आपको हाथ में लकवा हो गया है तो उस अंग का संपर्क आपके मस्तिक्ष से नहीं हो पाता है|

इस रोग में व्यक्ति असहाय हो जाता है और उसे दूसरों पर हर काम के लिए निर्भर होना पड़ता है। दरहसल यह बीमारी आपके शरीर की नसों को पूरी तरह से सुखा देती है। जिसकी वजह से शरीर के अंगों पर खून नहीं पहुचं पाता है। और शरीर का अंग किसी काम का नहीं रह जाता है।

इसके अतिरिक्त शरीर के मुख्य अंग जैसे की नाक, आँखे यहाँ तक की कान भी टेढ़े हो जाते हैं। इस रोग के प्रमुख लक्षण की बात करे तो इस रोग में आपके होंठ एक तरफ लटक जाते है| इस बीमारी के कई कारण है जैसे कोई बीमारी, चोट या फिर किसी सदमे का लगना|

यदि इसका उपचार नहीं किया जाये तो व्यक्ति पूरी जिंदगी अपाहिज की तरह जीने लगता है| योग की मदद से इसे ठीक किया जा सकता है| आइये जानते है Yoga for Paralysis in Hindi.

Yoga for Paralysis in Hindi: लकवा के लिए रामबाण हैं योग  

Yoga for Paralysis in Hindi

पर्वतासन

पर्वतासन, यह योग का एक बहुत ही महत्वपूर्ण आसन है| जैसे की नाम से ही प्रतीत हो रहा है, इसमें आपका शरीर पर्वत के समान रहेगा| इसे करते वक्त आपके शरीर में खिचाव आता है, इसलिए इसे करने से लकवे में बहुत फायदा मिलता है| इसे करने पर आपकी रीढ़ की हड्डी, गर्दन, पेट सभी की अच्छी स्ट्रेचिंग हो जाती है| इस आसन को कोई भी कर सकता है और इसका अभ्यास दिन के किसी भी समय किया जा सकता है| आप चाहे तो इसे कुर्सी या सोफे पर भी कर सकते है|

इसे करने के फायदे

  • यह शरीर से तनाव को दूर करता है साथ ही साथ मांसपेशियों को भी आराम पहुचाता है|
  • इससे शरीर की मांसपेशिया और नर्वस सिस्टम मजबूत बनते है|
  • यह रीढ़ की हड्डी को ताकत देता है, साथ ही इससे आपके कार्य में सुधार भी आता है|
  • इससे शरीर के अंगों का तनाव दूर होता है|
  • यह मांसपेशी संबंधित समस्याए जैसे की लकवा और पक्षाघात से निजात दिलाता है|

प्राणायाम

यदि आपको एक तरफ से पैरालिसिस हुआ हैं तो इसे आप अनुलोम विलोम प्राणायाम की मदद से ठीक कर सकते है| इसके लिए जिस तरफ से आपका हाथ काम कर रहा हैं आप उस हाथ से हर रोज़ कम से कम 1 घंटे तक अनुलोम विलोम करे।

इससे आपको सकारात्मक परिणाम देखने को मिलेंगे। तीन महीने में ही आपको फरक देखने को मिलेगा| यह एक प्रभावी नेचुरल Paralysis Treatment है|

सुखासन

नाम से ही आप समझ सकते है की यह आसन सुख देने वाला है| यह आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी करने में मदद करता है| इस आसन को करने से आपकी रीढ़ की हड्डी सीधी होती है| इस मुद्रा को करने से आपका मन भी शांत हो जाता है|

सिद्धासन

पैरालिसिस का इलाज करने के लिए सिद्धासन एक बहुत ही उपयोगी योग मुद्रा है| यह आसन मुख्य रूप से आपके शरीर के चक्रों से कुंडलिनी शक्ति जाग्रत करती है। कुंडलिनी एक शक्ति है जो प्रजनन अंगों के ऊपर रहती है| इस आसन में माहिर इन्सान अपने शरीर एवं मन को मजबूत बना लेता है|

इसके फायदे

  1. यह शरीर को उर्जा देता है| इससे सारे शरीर की मांसपेशियों को राहत मिलती है|
  2. इस आसन का नियमित अभ्यास करने से मन शांत होता है| मानसिक शांति मिलती है, जिससे शरीर को उर्जा मिलती है|
  3. यह शरीर की स्मृति शक्ति बढाता है और पाचन कार्यों में सुधार लाता है|
  4. इससे नसों और शरीर के अंगों की मांसपेशियों का संकुचन कम होता है|
  5. जो रात के वक्त पसीने से तरबतर हो जाते है, उन्हें यह आसन जरुर करना चाहिए|
  6. यह उन लोगो के लिए बहुत फायदेमंद है जो नर्वस रिलेटेड मसल्स प्रॉब्लम से परेशान है|
ऊपर आपने जाना Yoga for Paralysis in Hindi. अब आप यह तो जान ही गए होंगे की योग लकवे में कितना फायदेमंद है| लकवे के मरीज को योग जरुर करना चाहिए ताकि उसके शरीर में मूवमेंट रहे| अपने मन से योग ना करे, अपने चिकित्सक से पहले राय ले और योगा क्लासेज ज्वाइन करे|