रोज आधे घंटे करेंगे योग तो नहीं होगी खर्राटों की समस्या

Go to the profile of  Yogkala Hindi
Yogkala Hindi
1 min read
रोज आधे घंटे करेंगे योग तो नहीं होगी खर्राटों की समस्या

सोते समय नाक से तेज आवाज निकलना ही खर्राटे कहलाता है| इसे अंग्रेजी में स्नोरिंग कहा जाता है| यह एक बेहद ही आम समस्या है 5 में से लगभग एक व्यक्ति इस समस्या से परेशान है| पुरुषो और महिलाओ दोनों को ही यह समस्या होती है, लेकिन महिला की तुलना में पुरुष में यह ज्यादा देखने को मिलता है|

कई बार तेज खर्राटे के चलते आपको सबके बिच शर्मिंदा भी होना पढता है| कई बार कोई सामाजिक सम्मलेन में हमको जाना पढता है| ऐसे में यदि आपको खर्राटे लेने की आदत हो तो आप सबके बिच हसी का पात्र बन जाते है|

खर्राटो के चलते आपके साथ वालो को बहुत डिस्टर्ब होता है| वे रात भर सो नहीं पाते जिसके चलते आपके रिश्ते भी ख़राब होते है| लेकिन इसकी परेशानी केवल इतनी ही नहीं है आप शायद नहीं जानते होंगे लेकिन खर्राटे आना अच्छे स्वास्थ्य का सूचक नहीं है| योग की मदद से आप खर्राटे की समस्या से निजात पा सकते है| तो चलिए आज के लेख में विस्तार से जानते है Yoga for Snoring in Hindi.

Yoga for Snoring in Hindi: योग से करे खर्राटे की समस्या को दूर

Yoga for Snoring in Hindi

आज के लेख में हम आपको खर्राटे से निजात दिलाने में मददगार योग आसनों के बारे में बताएँगे, लेकिन इससे पहले आपको यह जानना भी जरुरी है की खर्राटे क्यों आते है, इसके पीछे क्या कारण है:-

  • यदि हमारे नाक, गले या मुह में श्वास मार्ग छोटा हो तो इसके कारण भी खर्राटे आते है| क्योकि जब हवा इस मार्ग से गुजरती है तो इसके चलते उत्तको में कंपन पैदा होता है, जिसके चलते खर्राटे की आवाज आती है|
  • इसके अलावा यदि नाक में किसी तरह की तकलीफ जैसे की संक्रमण, हड्डी का बढ़ना या फिर श्वास मार्ग में अवरोध हो तो उसके चलते भी खर्राटे आ सकते है|
  • इसके अलावा ध्रूमपान करने वाले, मोटापे से पीढित, उच्च रक्तचाप के मरीज आदि को खर्राटे की समस्या होती है|
योग खर्राटे की समस्या से निजात दिलाने के लिए सबसे फायदेमंद है| जब तक व्यक्ति योग का अभ्यास करता है, योग के फायदे उस व्यक्ति में नजर आते है| यदि कोई व्यक्ति योग को बहुत लम्बे समय तक अभ्यास करता है तो उसका रिजल्ट बहुत प्रभावी होता है| योग लंग की कार्य क्षमता को बढाता है और हवा को पास करने के रास्ता हमेशा खुला रखता है, जिससे खर्राटे की समस्या कम होती है| आइये जानते कुछ प्रभावी योग आसनों के बारे में:-
  • कपालभाति
  • भ्रामरी प्राणायाम
  • उज्जायी प्राणायाम
  • ॐ उच्चारण
  • सिंहासन
  • भुजंगासन
  • नौकासन
  • धनुरासन
  • सूर्य नमस्कार
  • वरियर पोज़
  • सिंहासन

सिंहासन

सिंहासन का अभ्यास करते वक्त हमारे शरीर का आकार सिंह के समान हो जाता है, इसलिए इसे सिंहासन नाम दिया गया है। सिंहासन करने के लिए सर्वप्रथम वज्रासन की मुद्रा में बैठ जाएं। अपने दोनों हाथों को जमीन पर रखे और हाथों की अंगुलियां पीछे की ओर करके पैरों के बीच सीधा रखें।

लम्बी गहरी सांस ले और जीभ को बाहर की और निकालिए। दोनों आँखों को खोलकर भूमध्य की और देखिये|  मुख को यथासंभव खोल दें। उसके बाद श्वास को बाहर निकालते हुए सिंहवत गजर्ना करें। इस क्रिया को गजर्ना के साथ कम से कम 10 से 15 बार अभ्यास करें।

सिंहासन खर्राटे की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए सबसे बेहतर है। इसका नियमित अभ्यास करने से मुख, दांत, जीभ और गले की सभी बीमारियां दूर हो जाती हैं। थायरॉइड जैसी बीमारियों में भी यह आसन भी लाभकारी है। यह एक प्रभावी Snoring Solutions है|

आप यह भी पढ़ सकते है:- लीवर से जुड़ी बीमारियों को दूर रखना है तो रोज करे यह तीन योगासन

भ्रामरी प्राणायाम

भ्रामरी प्राणायाम को करते वक्त भंवरे जैसी गुंजन होती है, इसी वजह से इसे भ्रामरी प्राणायाम कहा जाता हैं। इसे करने से मन शांत होता है वहीं इसके नियमित अभ्यास से और भी बहुत से लाभ प्राप्त किए जा सकते हैं।

इसे करने के लिए सुखासन की मुद्रा में बैठ जाये और अपने दोनों हाथो के अंगूठे से कानो को बंद करदे| तर्जनी को सर पर रखे बाकी बची हुई उंगलियों को आँखों पर रखे फिर श्वास को धीमी गति से गहरा खींचकर अंदर कुछ देर रोककर रखें और फिर उसे धीरे-धीरे आवाज करते हुए नाक के दोनों छिद्रों से निकालें। ‍श्वास छोड़ते वक्त भंवरी जैसी आवाज निकालने की कोशिश करे|

इसे करने से तनाव दूर होता है और मानसिक शांति मिलती है| इस क्रिया को यदि आप सही तरीके से करते है तो इससे आपका हृदय और फेफड़े मजबूत बनते हैं। उच्च-रक्तचाप सामान्य होता है|

ऊपर आपने जाना Yoga for Snoring in Hindi. यदि आप भी हकलाहट की समस्या से परेशान है तो ऊपर बताये गए योग क्रियाओ का अभ्यास जरुर करे| और योग आसनों को योग गुरु के निर्देशन में ही करे|